यूनानी दिवस पर कुलाधिपति बोले, सपने बुनिए पर जीना न भूलिए

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय के यूनानी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल ने विवि के सभागार में विश्व यूनानी दिवस मनाया। इस मौके पर मेडिकल कॉलेज के विद्यार्थियों और शिक्षकों को संबोधित करते हुए कुलाधिपति सचिन गुप्ता ने कहा क‍ि आज से तीन साल पहले तमाम विरोधों और अड़चनों को दरकिनार रखते हुए संस्कृति विवि में यूनानी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल की नींव रखी गई। आज यह दुनिया का अपनी तरह का दूसरा मेडिकल कॉलेज है। विश्वविद्यालय की निगाह सबके प्रति सम है और हम चाहते हैं कि यहां से निकले चिकित्सक ऐसा काम करें जिससे से संस्कृति विवि का नाम गर्व से ऊंचा हो सके।

उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि मनुष्य के रूप में हमको जो जीवन मिला है उसको सार्थक बनाना है। सपने बुनिए लेकिन सपने बुनते समय जीना न भूलिए। उन माता-पिता के बारे में जरूर सोचिए जिनके अथक परिणाम से आप यहां विद्याध्ययन कर रहे हैं। उनके प्रति आपकी बड़ी जिम्मेदारी है, जिसका निर्वाह आपको करना है। मुझसे कहा गया कि यूनानी चिकित्सा अरबी में ही पढ़ाई जा सकेगी, इसपर मेरा जवाब था कि ऐसी विलक्षण चिकित्सा पद्धति को हिंदी-अंग्रेजी में पढ़ाया जाना चाहिए ताकि सभी इसका अध्ययन कर सकें। इस सोच के साथ ही यहां यूनानी मेडिकल कालेज और अस्पताल की शुरुआत की गई है। इसको हमें आगे बढ़ाना है। हमने इस पढ़ाई के साथ अन्य उपयोगी पाठ्यक्रम भी जोड़े हैं। इस मौके पर उन्होंने केक काटते हुए सबको यूनानी दिवस की बधाई दी।

इससे पूर्व कार्यक्रम में विवि की विशेष कार्याधिकारी मीनाक्षी शर्मा ने सबको बधाई देते हुए बताया कि कुलाधिपति सचिन गुप्ता दुनिया के दूसरे व्यक्ति हैं जिन्होंने आयुर्वेद के साथ यूनानी चिकित्सा पद्धति की शिक्षा की नींव संस्कृति विवि में रखवाई। यह शुरुआत कही जा सकती है लेकिन इसकी मंजिल बहुत गौरव प्रदान करने वाली है। विवि के कुलपति प्रोफेसर सीएस दुबे ने कहा कि यहां से पढ़कर निकलने वाले सभी विद्यार्थी रोजगार पा सकें ऐसी विश्वविद्यालय की योजना है। यूनानी मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. वकार अहमद ने कहा कि देश के प्रसिद्ध रहे हकीम अजमल खान के जन्मदिवस 11 फरवरी (वर्ष 1864) को यूनानी दिवस के रूप में मनाया जाता है। विद्यार्थियों को नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि तालीम के साथ सलीका भी सीखना जरूरी है। पैसे से सबकुछ खरीदा जा सकता है लेकिन इज्जत नहीं खरीदी जा सकती। इज्जत तो इज्जत देने से ही मिलती है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि समय का सदोपयोग करें, दुरुपयोग नहीं।

कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष कुलाधिपति सचिन गुप्ता द्वारा दीप प्रज्ज्वलन से हुआ। यूनानी मेडिकल कालेज के विद्यार्थियों ने कार्यक्रम के दौरान अपने गीतों, नज्मों और पेश किए गए वक्तव्यों से सबका दिल जीत लिया। यूनानी कालेज के विद्यार्थियों में सैफुल इस्लाम, मो.आरिफ, हुमैरा खान, बतूल, मो. फैज़ल, सिमायला नाज, सबा, गजाला, अकबर, फैजान, आसिफ, आलिया, शकील आदि ने अपनी प्रस्तुतियां दीं।
– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *