World Cup: सट्टा बाजार में साउथ अफ्रीका के मुकाबले टीम इंडिया फेवरेट

साउथहैम्पटन। World Cup में आज भारत अपने अभियान की शुरुआत करने जा रहा है। पहले मैच में उसका सामना साउथ अफ्रीका से है। टीम इंडिया जीत के साथ जहां सफर का आगाज करना चाहेगी वहीं अफ्रीकी टीम अपने शुरुआती 2 मैच हार चुकी है। एक और हार World Cup में उसके सफर को थाम सकती है। वैसे, सट्टा बाजार में टीम इंडिया फेवरेट है। विलियम हिल और लैडब्रोक्स के बुकमेकर्स इंडिया पर दांव लगा रहे हैं। आइए देखते हैं कि दोनों टीमों में कितना दम है।
दोनों टीमों का एक दूसरे के खिलाफ प्रदर्शन
सबसे पहले बात करते हैं दोनों टीमों के एक दूसरे के खिलाफ प्रदर्शन की। ओडीआई में ओवरऑल प्रदर्शन की बात करें तो आंकड़ों में दक्षिण अफ्रीका की टीम भारी दिखती है। अब तक दोनों टीमें 83 बार एक दूसरे का सामना कर चुकी हैं, जिसमें भारत को 34 में जीत मिली है। भारत का सक्सेज रेट 41 प्रतिशत है जबकि 46 मैचों में साउथ अफ्रीका को जीत मिली है और उसका सक्सेज रेट 57.5 प्रतिशत है।
पिछले यानी 2015 World Cup के बाद दोनों टीमें ओडीआई में 12 बार आमने-सामने हुईं, जिनमें से 8 में भारत ने जीत दर्ज की। पिछले World Cup के बाद दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत का सक्सेज रेट 67 प्रतिशत है। अगर पिछले 5 एकदिवसीय मैचों की बात करें तो भारत ने 4 में जीत हासिल की है।
टीम इंडिया की मजबूती, कमजोरी
टीम इंडिया की ओडीआई में वर्ल्ड रैंकिंग 2 है। टीम के पास इस समय कोहली और बुमराह के रूप में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज और गेंदबाज हैं। मौजूदा टीम में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत की ओर से बल्लेबाजी में कोहली टॉप परफॉर्मर हैं। उन्होंने अफ्रीका के खिलाफ 88 की स्ट्राइक रेट से 1,269 रन बनाए हैं। इसमें 4 शतक भी शामिल हैं। गेंदबाजी में कुलदीप यादव टॉप परफॉर्मर हैं। उन्होंने 13 की औसत से कुल 17 विकेट हासिल किए हैं। के. एल. राहुल और रविंद्र जडेजा छिपे रूस्तम साबित हो सकते हैं।
बात अगर टीम इंडिया की कमजोरी की करें तो मध्य क्रम की चुनौती बरकरार है। पिछले वर्ल्ड कप के बाद भारत ने मध्य क्रम में खासकर चौथे नंबर पर कई प्रयोग किए हैं।
टीम इंडिया के चयन में चुनौती
ऑलराउंडर केदार जाधव चोटिल हैं, जिन्होंने मैच प्रैक्टिस में भी हिस्सा नहीं लिया। वह बल्लेबाजी के साथ-साथ टीम के लिए उपयोगी स्पिनर भी साबित होते हैं। अगर आज वह नहीं खेलते हैं तो उनकी जगह पर विजय शंकर या रविंद्र जडेजा को मौका मिल सकता है।
साउथ अफ्रीका की मजबूती, कमजोरी
साउथ अफ्रीका की टीम की एकदिवसीय मैचों में वर्ल्ड रैंकिंग 3 है। बोलिंग और फील्डिंग उसकी हमेशा से मजबूती रही हैं लेकिन फिलहाल दोनों ही डिपार्टमेंट में टीम संघर्ष करती नजर आ रही है। मौजूदा टीम में कैप्टन क्विंटन डि कॉक भारत के खिलाफ बल्लेबाजी में टॉप परफॉर्मर हैं। उन्होंने भारत के खिलाफ 92 की स्ट्राइक रेट से 774 रन बनाए हैं। इसमें 5 शतक भी शामिल है। इसके अलावा रबाडा और इमरान ताहिर छिपे रूस्तम साबित हो सकते हैं।
भारत के खिलाफ गेंदबाजी में डेल स्टेन अफ्रीका के लिए टॉप परफॉर्मर हैं। उन्होंने 22 के औसत से 34 विकेट हासिल किए हैं लेकिन स्टेन चोट की वजह से पूरे टूर्नामेंट से ही बाहर हो चुके हैं, जो अफ्रीका के लिए तगड़ा झटका है। स्टेन के अलावा एंगिडी और अमला भी चोटिल हैं। बेंच स्ट्रेंथ की कमजोरी बड़ी चुनौती है।
साउथ अफ्रीका के लिए टीम चयन में चुनौती
स्पीड स्टार डेल स्टेन कंधे की चोट की वजह से पूरे World Cup से बाहर हो चुके हैं। इसके अलावा चोटिल लुंगी एंगिडी भी 10 दिनों के लिए बाहर हैं। हाशिम अमला भी चोट से उबर रहे हैं। इन खिलाड़ियों का रीप्लेसमेंट चुनौती है।
पिछले 4 वर्ल्ड कप में दोनों टीमों की टक्कर
पिछले 4 वर्ल्ड कपों में दोनों टीमें 4 बार आमने-सामने हुईं जिसमें से 3 मैचों में दक्षिण अफ्रीका ने जीत हासिल की।
1992- उस World Cup में एडिलेड में जब दोनों टीमों की टक्कर हुई तो टीम इंडिया के तत्कालीन कैप्टन मोहम्मद अजहरूद्दीन ने 77 गेंदों में 79 रनों की शानदार पारी खेली थी। भारत ने 6 विकेट पर 180 रन बनाए थे। बारिश से प्रभावित इस मैच में दक्षिण अफ्रीका की जीत हुई थी। उसे 4 विकेट के नुकसान पर लक्ष्य हासिल कर लिया। 84 नाबाद रन बनाने वाले पीटर क्रिस्टन मैन ऑफ द मैच रहे।
1999-इंग्लैंड के होव में हुए मुकाबले में सौरव गांगुली ने शानदार ऑलराउंड प्रदर्शन किया। उन्होंने 97 बनाने के साथ 1 विकेट भी लिया। भारत ने 5 विकेट पर 253 रन बनाए और अफ्रीका ने मैच को 4 विकेट से जीत लिया। कैलिस ने 96 रन बनाए।
2011- नागपुर में हुए मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका ने बारत को 3 विकेट से मात दी। पहले खेलते हुए भारत ने 296 रन बनाए थे। सचिन तेंडुलकर ने 101 गेंदों पर 111 रनों की शानदार पारी खेली थी लेकिन वह बेकार गई। मैन ऑफ द मैच डेल स्टेन ने 50 रन देकर 5 विकेट लिए थे।
2015- मेलबर्न में हुए इस मुकाबले को भारत ने 130 रनों से जीता था। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने शिखर धवन के शानदार 137 रनों की बदौलत 7 विकेट पर 307 रन बनाए थे। इस बार World Cup टीम से बाहर रहाणे ने भी 60 गेंदों में 79 रनों की तेजतर्रार पारी खेली थी। जवाब में दक्षिण अफ्रीका की पूरी टीम 177 रनों पर ढेर हो गई। शिखर मैन ऑफ द मैच चुने गए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »