world autoimmune arthritis day आज: डाइट से नियंत्रण संभव

आर्थराइटिस यानी की जोड़ों का दर्द कई तरह का हो सकता है। इसके इलाज में आम तौर पर एंटी-इंफ्लेमेटरी या दर्द को कम करने वाली दवाएं दी जाती हैं। इसके लिए कोई ऐसी डाइट नहीं है, जिसे फॉलो करने को कहा जाता है। हालांकि, रिसर्चर्स ने यह सुझाव दिया है की अगर आपको यह परेशानी है तो अपनी डाइट में ऐसे खाने को शामिल करें जो जोड़ों के दर्द को न बढ़ाए।
प्रोसेस्ड फूड
जोड़ों के दर्द में प्रोसेस्ड फूड खाने से बचें। बेक्ड प्रोसेस्ड फूड या पहले से पैक किए गए खाने या स्नैक्स को अपनी डाइट से बहार रखें। इन खाने की चीजों में ट्रांस फैट होता है, जो खाने को लम्बे समय तक ठीक रखने में मदद करता है। ट्रांस फैट शरीर में जलन और सूजन को बढ़ावा देता है। किसी भी खाने की वस्तु जिस पर containing partially hydrogenated oils का लेबल हो, उसे खाने से बचें।
मक्का के दाने, सनफ्लॉवर, सोया आयल, मांस इन सभी खाने की चीजों में ओमेगा-6 फैटी एसिड बहुत अधिक मात्रा में होता है। यह तभी तक सेहत के लिए अच्छे है, जब तक इसे कम मात्रा में लिया जाए। ओमेगा-6 को अधिक मात्रा में खाने से जलन और सूजन बढ़ सकती है।
चीज और हाई फैट वाले डेरी प्रोडक्ट्स
चीज, मक्खन, क्रीम, मायोनीज आदि सभी चीजों में फैट की मात्रा काफी अधिक होती है। ये एडवांस्ड ग्लीकेशन एन्ड प्रोडक्ट्स (AGEs) होते हैं, जो इन्फ्लेमेशन को बढ़ाते हैं। हालांकि, हाल ही में हुई एक स्टडी में पता चला है की फर्मेन्टेड डेरी प्रोडक्ट जैसे की दही एंटी-इंफ्लेमेटरी होता है।
चीनी और चीनी के विकल्प
जिन चीजों में रिफाइंड शुगर होती हैं, उनसे परहेज करें। इसमें पेस्ट्रीज, चॉकलेट, कैंडी, सोडा, पैकेज फ्रूट जूस आदि शामिल हैं। यह आपके शरीर में प्रोटीन के रिलीज को बढ़ावा देते हैं जिससे इन्फ्लेमेशन बढ़ता है। खाने की चीजों में चीनी कई तरह से डाली जाती है। चीनी के अलावा कॉर्न सिरप, फ्रुक्टोस आदि से भी बचें। चीनी कम करने के कारब लोग इसका विकल्प देखने लगते हैं। जैसे की डाइट सोडा, च्युइंग-गम, कैंडी, पुडिंग आदि से भी परहेज करें।
शराब और तम्बाकू
शराब और तम्बाकू जोड़ों के दर्द ही नहीं बल्कि बहुत से स्वास्थ्य समस्याओं का कारब बनते हैं। अगर आप धूम्रपान करते हैं तो आपको rheumatoid arthritis हो सकता है। अगर आप अधिक शराब का सेवन करते हैं तो आप गाउट के है रिस्क पर हैं। हेल्दी जॉइंट्स के लिए अच्छी डाइट होना जरूरी है। इसी के साथ फिजिकल एक्टिविटी और शरीर को रेस्ट देना भी आवश्यक है। इन सभी पर तम्बाकू का असर पड़ता है जिससे जोड़ों के दर्द के अलावा आपको कई और समस्याएं भी हो सकती हैं। जोड़ों को और अपने स्वास्थ्य को सही रखने के लिए रोज व्यायाम या सैर करें, अच्छा भोजन करें और पर्याप्त नींद लें।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »