राजीव एकेडमी के छात्रों ने हासिल की डाटा विश्‍लेषण की जानकारी

मथुरा। राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एण्ड मैनेजमेंट के MBA विभाग द्वारा दो दिवसीय माइक्रोसॉफ्ट एक्सल एडवांस ट्रेनिंग पर ऑनलाइन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इस वर्कशॉप में रिसोर्स परसन दर्शन शर्मा ने छात्र-छात्राओं को कम्प्यूटर वर्क को कम समय, सरलता से डाटा विश्लेषण तथा एक्सल के एडवांस फायदों से अवगत कराया।

पहले दिन रिसोर्स परसन श्री शर्मा ने छात्र-छात्राओं को एक्सल की एडवांस टेक्निक के प्रयोग से समय की बचत से संबंधित टिप्स दिए। उन्होंने विद्यार्थियों के प्रश्नों के उत्तर देते हुये कई महत्वपूर्ण कार्य जैसे कि हाउ टू फार्मेट लार्ज आफ सेल्स क्विकली एण्ड एफिसिएंटिली विद पॉवर आफ फार्मेट पेंटर तथा मेक योर टाइटल्स एण्ड हेडिंग्स स्टैंड आउट बाई यूजिंग द मैरजे एण्ड सेंटर फार्मेटिंग फीचर, हाउ टू फिल आउट एन इंटायर कॉलम आफ डाटा यूजिंग द न्यू फ्लेस फिल टूल के लाभों के बारे में बताया।

श्री शर्मा ने छात्र-छात्राओं से ह्वाई एण्ड हाउ टू क्रिएट रिलेशनशिप्स विटविन ट्रेवल्स एण्ड हाउ टू क्विकली क्रिएट कस्टम आटोफिल्टर्स टू व्यू योर डाटा द वे यू वांट टू एण्ड हाउ टू टेक एडवांटेज आफ द सर्च फिल्टर (How and How to Create Relationships Within Travels and How to Quickly Create Custom Autofilters to View Your Data the Way You Want to and How to Take Advantage of the Search Filter) पर भी संवाद किया। सिम्पल टेक्निक के अलावा रिसोर्स परसन ने मार्केट प्लेस, अदर्स एण्ड इम्पोर्ट डाटा इन-टू एक्सल तथा एसक्यू सर्वर, विंडोज एंजुरी का महत्व स्पष्ट किया।

वर्कशॉप के दूसरे दिन थ्री डी इफेक्ट विद योर सेल्स एण्ड इफेक्ट आन इमेजेज इन योर वर्कशीट पर चर्चा हुई। वर्कशॉप में यूजिंग टैम्पलेट तथा एक्सल टू क्विकली क्रिएट प्रोफेशनल लुकिंग फार्म्स इन मिनट्स एवं कंडीशनल फार्मेटिंग, आईकॉन सेट्स, इम्प्रूव्ड डाटा लेवल, फार्मेटिंग टिप्स, कॉम्बोवॉक्सेस, लिस्ट वॉक्सेस, ओपन बटन और क्विक एनालिसिस टूल, गोल सिक फंक्शन, एक्सल एण्ड इंटरनेट एडवांस चार्टिंग एण्ड ग्राफिंग फंक्शन के फायदों की विद्यार्थियों को जानकारी दी। इस वर्कशॉप में विद्यार्थियों ने न केवल बढ़-चढ़कर भाग लिया बल्कि बहुत उपयोगी बताया। संस्थान के निदेशक डॉ. अमर कुमार सक्सेना ने रिसोर्स परसन दर्शन शर्मा का आभार माना।

आर.के. एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डॉ. रामकिशोर अग्रवाल ने अपने संदेश में छात्र-छात्राओं का आह्वान किया कि वह सूचना प्रौद्योगिकी के दौर में निरंतर हो रहे बदलाव की न केवल जानकारी रखें बल्कि उस पर सतत रूप से कार्य भी करें। डॉ. अग्रवाल ने कहा कि जो छात्र जितना अधिक प्रयोगात्मक कार्य करेगा, उसकी बौद्धिक क्षमता उतनी ही बढ़ेगी।
– Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *