राजीव एकेडमी मेें हुई Business Simulation पर वर्कशाप

Business Simulation पर हुई वर्कशाॅप में जर्मन सिमुलेशन प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ प्रोफेसर अशोक एन. उलाल ने साझा किये अनुभव

मथुरा। राजीव एकेडमी फाॅर टेक्नोलाॅजी एण्ड मैनेजमेंट में Business Simulation पर वर्कशाप का आयोजन हुआ। इसमें जर्मन सिमुलेशन प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ प्रोफेसर अशोक एन. उलाल ने Business Simulation पर बीबीए द्वितीय और तृतीय वर्ष के विद्यार्थियों के समक्ष अपने अनुभव साझा किये। उन्होंने वर्तमान समय में मार्केट में अच्छे जाॅब और व्यापार की अच्छी सम्भावनाओं के बारे में विद्यार्थियों की शंका का समाधान कर कहा कि मैनेजमेंट के विद्याथियों के लिए सैद्धान्तिक ज्ञान के साथ-साथ प्रायोगिक ज्ञान का होना भी आवश्यक है। किसी भी संस्थान को अच्छे कर्मचारियों द्वारा समर्थन मिलने पर उसकी औद्योगिक उन्नति निश्चित है। बिजनेस सिमुलेशन से विद्यार्थियों का औद्योगिक ज्ञान दो गुना हो जाता है। विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य के लिए बिजनेस सिमुलेशन महत्वपूर्ण सिद्ध हो रहा है।

आर.के. एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा- राजीव एकेडमी गुणवत्ता युक्त उच्च शिक्षा दिलाने को प्रतिबद्ध
आर.के. एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल ने इस अवसर पर कहा कि राजीव एकेडमी युवाओं को गुणवत्ता युक्त उच्च शिक्षा उपलब्ध कराने में प्रतिबद्ध है। संस्थान में आज की आवश्यकता के अनुरूप आधुनिक शैक्षणिक तकनीक, वर्कशाप, गेस्ट लेक्चर, संगोष्ठी आदि का व्यापक प्रबन्ध किया जाता है। जिससे कि यहां अध्ययनरत सभी विद्यार्थी आज के माहौल में अपने को तैयार कर सकें। वे अपनी योग्यता के अनुरूप अच्छे से अच्छा अपना कॅरियर बना सके। हब के वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल ने इस अवसर पर कहा कि यह संस्थान सैद्धान्तिक शिक्षण देने के साथ-साथ इण्डस्ट्री बेस पर व्यावहारिक शिक्षण भी प्रदान कर रहा है। जिसके लिए सभी आवश्यक स्किल्स एमबीए, बीबीए एवं बी.ईकाम के छात्र-छात्राओं को सिखाए जाते हैं। उन्हांेने कहा कि नौकरी के लिए सलेक्शन छात्र-छात्रा का इन्ही स्किल्सों के माध्यम से होता है। इसीलिए सभी छात्र-छात्राओं को पहले दिन से ही इसी प्रकार का व्यक्तित्व बनाना होगा। आप अपनी दिनचर्या में नियमों का कठोरता से पालन करेंगे तो भविष्य में स्वर्णिम पायदान आप के पास होगा।

एम.डी मनोज अग्रवाल ने कहा कि देश के युवा सेना के जवानों की दिनचर्या का अध्ययन करें। देश की रक्षार्थ प्रतिक्षण तत्पर रहने वाला जवान हर क्षण सीखता है। जीवन भर अनुशासित रहता है जिससे जीवन में आने वाली समस्याएं उस पर हावी नहीं हो पाती हैं। छात्र-छात्राओं का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि ज्ञान शक्ति के बल पर आपको भी अपने देश का सजग प्रहरी बनना है। इस अवसर पर निदेशक डा. अमर कुमार सक्सैना ने वर्कशाप में उपस्थित सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने स्पष्ट रूप से विद्यार्थियों से कहा कि इस प्रकार की वर्कशाप से लाभ उठाएं। जिससे उन्हें भविष्य के लिए अथाह ज्ञान मिलेगा। इस ज्ञान का संचय करके सभी छात्र-छात्राएं अपने कॅरियर को उच्चतम बुलंदियांे तक पहुंचाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »