राजीव एकेडमी में हुई वर्कशाॅप

मथुरा। राजीव एकेडमी फाॅर टेक्नालाॅजी एण्ड मैनेजमेंट के एमसीए विभाग में आईटी की Advance Technology पर एक वर्कशाप का आयोजन हुआ। इस तीन दिवसीय वर्कशाप में उद्योग जगत की कई नामचीन हस्तियों ने राजीव एकेडमी के विद्यार्थियों को आईटी की मूलभूत बारीकियों से अवगत कराया। विभिन्न कम्पनियों के आईटी विभाग के एक्सपर्टस ने कम्प्यूटर की विकसित हो रही विभिन्न भाषाओं पर भी विचार रखे। उन्होंने कहा कि कम्प्यूटर आधुनिक जीवन का अहम हिस्सा बनता जा रहा है।
एडवांस टेक्नोलाॅजी पर लगातार तीन दिन चर्चा हुई आईटी के विशेषज्ञ विद्वानों ने सहभागिता करते हुए कारपोरेट जगत में (एचसीएल, टीसीएस, एनआईटी) के उपयोग पर विस्तृत विवेचन प्रस्तुत किया। उन्होंने विद्यार्थियों को आज के संदर्भ में आईटी और साइबर सिक्योरिटी के बारे में सारगर्भित वक्तव्य दिया। मोसिन कुरैशी ने साइबर इम्पलीमेंट के प्रति विद्यार्थियों को जागरूक करते हुए कहा कि भविष्य में इसका बड़ा भारी उपयोग है। यह हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है।
उन्होंने कहा कि हमारी सरकारी मशीनरी के पास साइबर अपराध विशेषज्ञों की भारी कमी है। एमसीए के विद्यार्थी इसे समझें क्योंकि आगामी भविष्य में साइबर तकनीक जैसे- साइबर क्राइम, ऐथिकल हैकिंग, प्रेजेण्टेशन आदि अति महत्वपूर्ण रहेंगे। अर्चित वर्मा ने पायथन टेक्नोलाॅजी के लाभ और उसके सफल प्रयोगों के बारे में बताया। श्री वर्मा ने विद्यार्थियों से चर्चा करते हुए उन्हें आधुनिक युग में पायथन की अपार सम्भावनाओं से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि आईटी का यह महत्वपूर्ण पक्ष है।
ग्रेनोसाॅफ्ट कम्पनी से आए दिनेश बाबू ने विद्यार्थियों को पीएचपी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पर प्रशिक्षण दिया। उन्होेंने विद्यार्थियों को इस टेक्नोलाॅाजी को जाॅब हासिल कराने वाला शक्तिशाली और लोकप्रिय साधन बताया। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी यदि पीएचपी और बैव डिवैलपमेंट में महारत हासिल कर लेते हैं तो उच्च पैकेज पर जाॅब मिलना निश्चित हैं।
कम्प्यूटर के विद्धानों ने राजीव एकेडमी में आयोजित इस त्रिदिवसीय कार्यशाला में विद्यार्थियों की मुक्त कण्ठ से सराहना करते हुए कहा कि सभी विद्यार्थियों में आईटी का वो जज्बा है, जो होना चाहिए। यहां के एमसीए के विद्यार्थी उच्च स्तर के प्रोग्रामर बन सकते हैं। विद्वानों ने कार्यशाला में जावा, मिडिल वैब टेक्नोलाॅजी, टीसीएस, एसडब्लू एंजिनियरिंग पर भी चर्चा की इसके साथ उन्होंने कई प्रकार के प्रोजेक्टों पर भी विद्यार्थियों से कार्य करवाया। आज के लेटेस्ट टूल्स और प्रायवेट व सरकारी सैक्टर में आईटी टैक्नोलाॅजी के भविष्य पर भी चर्चा हुई। अन्त में सभी प्रतिभागी विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र प्रदान किये गए।
आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि भविष्य में कम्प्यूटर हर व्यक्ति की जरुरत बन जाएगा। हर काम करने में कम्प्यूटर का दखल हो जाएगा। तब कम्प्यूटर के क्षेत्र में रोजगारों की कमी नहीं रह जाएगी। ऐसे में छात्र-छात्राआंे को गंभीरता और मेहनत से इसे क्षेत्र को अपना कॅरियर बना कर अपनाना चाहिए।
राजीव एकेडमी के निदेशक डा. अमर कुमार सक्सेना ने कहा कि संस्थान वर्कशाॅप, सेमिनार जैसी तमाम प्रतियोगिताआंे को आयोजित करके छात्र-छात्राओं के कॅरियर को बनाने की भरपूर कोशिश करता है। इसमें उसे भरपूर सफलता मिल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »