एसेसमेंट इन मेडीकल एजुकेशन पर केडी मेडीकल में हुई Workshop

एसेसमेंट इन मेडीकल एजुकेशन विषय पर Workshop में 18 कनिष्ठ प्रोफेसरों को पांच प्रशिक्षित प्रोफेसरों ने किया संबोधित

मथुरा। राष्ट्रीय राजमार्ग-2 स्थित केडी मेडीकल कालेज, हास्पीटल एंड रिसर्च सेंटर की मेडीकल एजुकेशन यूनिट के तत्वावधान में एक Workshop का आयोजन शुक्रवार को किया गया। इसका उद्घाटन कालेज की डीन डा. मंजू नवानी और एकेडमिक एंड रिसर्च विंग के निदेशक डा. अशोक कुमार धनविजय ने संयुक्त रुप से किया। इस कार्यशाला का विषय ‘एसेसमेंट इन मेडीकल एजुकेशन‘ रहा। इस कार्यशाला में मौजूद 18 कनिष्ठ प्रोफेसरों को पांच प्रशिक्षित प्रोफेसरों ने संबोधित किया।

डीन डा. मंजू नवानी और एकेडमिक एंड रिसर्च विंग के निदेशक डा. अशोक कुमार धनविजय ने संयुक्त रुप से किया उद्घाटन

कालेज की डीन डा. मंजू नवानी और एकेडमिक एंड रिसर्च विंग के निदेशक डा. अशोक कुमार धनविजय ने कार्यशाला के उद्घाटन के बाद कहा कि इस कार्यशाला के विषय पर फिजियोलाॅजी विभाग से डा. गौरव कुमार, कम्यूनिटी मेडिसिन डिपार्टमेंट से डा. मलिक शाह नमाज, फार्मेकोलाॅजी विभाग से डा. जयकिशन, माइक्रोलाॅजी डिपार्टमेंट से डा. सोनल जिंदल, सर्जरी डिपार्टमेंट से डा. वरुण सिसोदिया ने संबोधित किया। विद्वान वक्ताओं ने कहा कि संबंधित विषय में शिक्षण के बाद हम लोगों को छात्र-छात्राओं के द्वारा प्राप्त ज्ञान का मूल्यांकन अच्छे से करने पर जोर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसा करना बेहतरीन मेडीकल एजुकेशन के लिए जरुरी है।

Workshop में प्रतिभाग करने वाले अन्य प्रोफेसरों और चिकित्सकों में डा. श्याम बिहारी शर्मा, डा. नितिन सिंह सलारिया, डा. राजीव गुप्ता, डा. मोहम्मद साबिर हुसैन, डा. अम्बरीश, डा. भूमिका भट्ट, डा. अनूप कुमार, डा. अभिलाषा स्मिथ, डा. सुबोध कुमार, डा. नाहिद यास्मीन, डा. देवेश, डा. रवि खुराना, डा. जयेश शाकीत, डा. श्वेता, डा. प्रिया चैधरी, डा. मोहम्मद इमरान, हितेश और अंकुर कुमार मौजूद रहे।

बेहतर शिक्षण को शोधों से अपडेट होते रहें-डा. रामकिशोर अग्रवाल
मथुरा। राष्ट्रीय राजमार्ग-2 स्थित केडी मेडीकल कालेज, हास्पीटल एंड रिसर्च सेंटर की मेडीकल एजुकेशन यूनिट के तत्वावधान में आयोजित कार्यशाला के बारे में आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि बेहतरीन शिक्षा प्राप्त करना हर शिक्षार्थी का अधिकार है। प्रोफेसरों को शिक्षण के क्षेत्र में हो रहे शोधों से अपडेट होते रहना चाहिए। ऐसी कार्यशालाआंे के आयोजन के पीछे भी यही उद्देश्य छिपा होता है। इस उद्ेदश्य की पूर्ति के लिए हर प्रोफेसर को अपना बेस्ट देना चाहिए। जिससे मेडीकल कालेज में शिक्षारत छात्र-छात्रा अच्छे चिकित्सक बनकर राष्ट्र और समाज की बेहतरीन सेवा कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »