श्रीलंका में अब महिलाओं का शराब ख़रीदना वैध, 1955 के क़ानून में बदलाव

श्रीलंका में अब महिलाओं का शराब ख़रीदना वैध होगा. ऐसा 60 सालों में पहली बार हो रहा है. ये छूट 18 साल से अधिक उम्र की लड़कियों के लिए है.
सरकार ने कहा है कि इसके लिए 1955 के एक क़ानून में बदलाव किया गया है. साथ ही सरकार ने ये भी माना कि ये क़ानून महिलाओं के साथ भेदभाव करता था.
बुधवार को श्रीलंका के वित्त मंत्री मंगला समरवीरा ने क़ानून में इस बदलाव की घोषणा की.
इसका ये मतलब है कि महिलाएं अब उन जगहों पर काम कर सकेंगी जहां शराब की बिक्री होती है.
हालांकि श्रीलंका में पुराने क़ानून को कभी सख़्ती से लागू नहीं किया गया लेकिन कई महिलाओं ने इस बदलाव का स्वागत किया है.
फ़ैसले का स्वागत
सोशल मीडिया पर महिलाओं ने सरकार को इस फ़ैसले के लिए शुक्रिया कहा है.
नए क़ानून के तहत महिलाओं को अब रेस्तरां और बार में काम करने या पीने के लिए सरकार के आबकारी आयुक्त से इजाज़त लेने की ज़रूरत नहीं है.
ज़्यादातर लोगों ने इस फ़ैसले का स्वागत किया है, लेकिन कुछ ऐसे भी हैं जिन्हें अंदेशा है कि इस बदलाव से महिलाएं शराब की लत की शिकार हो सकती हैं.
श्रीलंका में महिलाएं सांस्कृतिक वजहों से पारपंरिक रूप से शराब नहीं पीतीं.
-BBC