केंद्रीय मंत्री डॉ महेश शर्मा को ब्लैकमेल करने पर युवती गिरफ्तार

नई दिल्‍ली। केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा को ब्लैकमेल करके एक युवती 2 करोड़ रुपए की मांग कर रही थी। पुलिस ने आरोपी युवती को गिरफ्तार कर उसका टैब कब्जे में ले लिया। जांच के दौरान पुलिस ने टैब की जांच की, जिसमें पहली किस्त 43 लाख की सोमवार शाम तक देनी थी, जबकि दूसरी किस्त मंगलवार सुबह दो करोड़ की देनी थी।

मांग रही थी दो करोड़ रुपए

मिली जानकारी के अनुसार इस घटना में छह से सात लोग शामिल हैं। बताया जा रहा है कि एक चैनल बंद होने के बाद से आरोपियों ने ब्लैकमेलिंग का काम शुरू कर दिया था। पुलिस के अनुसार इस गैंग ने कई लोगों को अपना शिकार बनाया है। ये वीडियो के जरिए लोगों को ब्लैकमेल करते थे।

बताया जा रहा है कि इस ब्लैकमेलिंग में नोएडा स्थित एक निजी चैनल का संचालक भी शामिल है। इस गिरोह में पांच से छह लोगों के शामिल होने की बात सामने आ रही है। महेश शर्मा को ब्लैकमेल करने वाली लड़की भी मीडिया में काम कर चुकी है।

अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक, लड़की ने एक पत्र देकर केंद्रीय मंत्री से रुपये मांगे थे। इस मामले की जानकारी महेश शर्मा ने गौतमबुद्ध नगर के एसएसपी को दी। इसके बाद मामला सामने आया। लड़की के पास केंद्रीय मंत्री और कुछ लोगों के बीच बातचीत का वीडियो भी मिला है। बातचीत चुनाव से पहले की है।

गौतमबुद्ध नगर के एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि महेश शर्मा से 2 करोड़ रुपये मांगने वाली लड़की सोमवार को 45 लाख की किश्त लेने के लिए नोएडा स्थित कैलाश अस्पताल आयी थी। इसके बाद आरोपित युवती को गिरफ्तार कर लिया गया।

बता दें कि महेश शर्मा दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर लोकसभा सीट से मौजूद सांसद हैं और इससे पहले वे नोएडा से विधायक भी रह चुके हैं। पश्चिमी यूपी में उन्हें कद्दावर भाजपा नेता माना जाता है।

महेश शर्मा का राजनीतिक सफर
महेश शर्मा बचपन से ही आरएसएस से जुड़ गए थे। छात्र जीवन के दौरान एबीवीपी से जुड़े। फिर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। वर्ष 2009 में पहली बार वह गौतमबुद्ध नगर लोकसभा का चुनाव भाजपा के टिकट पर लड़े। वह पंद्रह हजार मतों से चुनाव हार गए। वर्ष 2012 में वह नोएडा विधानसभा का चुनाव लड़े और जीत गए। वर्ष 2014 में गौतमबुद्ध नगर से भाजपा ने उन्हें फिर लोकसभा चुनाव में उतारा। इस बार वह चुनाव जीत गए। फिर केंद्रीय मंत्री बनें। इस बार फिर वे चुनावी मैदान में हैं।

-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *