Wipro दुनिया की चौथी सबसे मूल्यवान IT सर्विसेज कंपनी बनी

बेंगलुरु। अजीम प्रेमजी की ओनरशिप वाली Wipro ने मार्केट कैप में Cognizant को पीछे छोड़ दिया है। इसके बाद विप्रो दुनिया की चौथी सबसे मूल्यवान आईटी सर्विसेज कंपनी बन गई है। इस वक्त दुनिया की सबसे मूल्यवान आईटी सर्विसेज कंपनी Accenture है। उसके बाद TCS और इन्फोसिस का स्थान है।
न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज पर विप्रो का ADR 2.4 फीसदी बढ़कर 7.4 डॉलर प्रति शेयर हो गया। इसकी वजह से कंपनी का मार्केट कैप बढ़कर 38.1 अरब डॉलर पर पहुंच गया।
Nasdaq पर सुबह के ट्रेड में कॉग्निजेंट का ADR 1.2% बढ़कर 71.5 डॉलर हो गया और कंपनी का मार्केट कैप 37.7 अरब डॉलर रहा। वित्त वर्ष 2019-20 में कॉग्निजेंट का रेवेन्यु 16.5 अरब डॉलर रहा था, जो कि विप्रो के रेवेन्यु के दोगुने से भी ज्यादा था। वित्त वर्ष 2019-20 में विप्रो का रेवेन्यु 8.1 अरब डॉलर रहा था।
नए सीईओ के आने के बाद से बेहतर हुआ प्रदर्शन
विप्रो में लगभग एक साल पहले नए सीईओ Thierry Delaporte ने जॉइन किया है। उनके संचालन में विप्रो के प्रदर्शन में सुधार हो रहा है। Thierry Delaporte ने बेहतर फोकस के लिए कंपनी की सर्विस लाइन्स को रिडिफाइन किया है और सीनियर मैनेजमेंट को कुछ हद तक ट्रिम किया है। Delaporte के आने के बाद से विप्रो के शेयरों में 127 फीसदी का उछाल आया है।
कॉग्निजेंट की रफ्तार पड़ रही धीमी
सालों तक ग्रोथ दर्ज करने के बाद अब कॉग्निजेंट की रफ्तार धीमी पड़ रही है। यह स्लोडाउन पुराने सीईओ फ्रांसिस्को डिसूजा का कार्यकाल खत्म होने के बाद से शुरू हुआ और नए सीईओ ब्रायन हंफ्राइज के कार्यकाल में भी कंपनी का प्रदर्शन बेहतर नहीं हुआ है। कॉग्निजेंट पिछले दो सालों में अधिग्रहणों पर लगभग 1.5 अरब डॉलर खर्च कर चुकी है। पिछले दो सालों में कंपनी के शेयर केवल लगभग 16 फीसदी चढ़े हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *