E-Cigarette की वेपिंग से होती हैं 200 तरह की स्वास्थ्य समस्याएं

युवाओं के बीच E-Cigarette इस वजह से फेमस हो रहा है क्योंकि इसे सिगरेट छोड़ने के विकल्प के रूप में पेश किया जाता है जबकि हकीकत ये है कि E-Cigarette की वेपिंग की वजह से निमोनिया और दिल की बीमारी समेत 200 तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं।
सामान्य सिगरेट पीने को जहां स्मोकिंग कहते हैं वहीं, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट जिसे E-Cigarette भी कहा जाता है, को पीने की आदत स्मोकिंग नहीं बल्कि वेपिंग कही जाती है।
दरअसल, E-Cigarette बैटरी से चलने वाली डिवाइस है जिसमें लिक्विड भरा रहता है। यह निकोटीन और दूसरे हानिकारक केमिकल्‍स का घोल होता है। जब कोई व्यक्ति E-Cigarette का कश खींचता है तो हीटिंग डिवाइस इसे गर्म करके भाप (vapour)में बदल देती है इसीलिए इसे स्‍मोकिंग नहीं vaping (वेपिंग) कहा जाता है।
वेपिंग से 49 तरह की गंभीर बीमारियों का खतरा
यूके में पिछले 5 साल से हो रही स्टडी में यह बात सामने आयी है कि E-Cigarette की वेपिंग की वजह से निमोनिया और दिल की बीमारी समेत 200 तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं। E-Cigarette के बारे में मेडिसन ऐंड हेल्थकेयर रेग्यूलेटरी एजेंसी की ओर से तैयार की गई रिपोर्ट की मानें तो इन बीमारियों को 74 अलग-अलग येलो कार्ड रिपोर्ट में शामिल किया गया है जिसमें से 49 बीमारियां ऐसी हैं जिन्हें गंभीर बीमारियों की लिस्ट में रखा जाता है।
E-Cigarette की वजह से महिला को हुआ निमोनिया
हालांकि अब तक दुनियाभर में E-Cigarette और वेपिंग के रिस्क को कमतर आंका जा रहा था लेकिन यूके में E-Cigarette पीने की वजह से अब तक हुई 12 मौतें और फेफड़े को नुकसान पहुंचने के 805 मामले सामने आने के बाद अब इसकी गंभीरता से जांच की जा रही है। साल 2016 में बर्मिंगम में एक महिला को लिपिओइड निमोनिया होने की बात सामने आयी थी जिसकी वजह E-Cigarette में मौजूद वेजिटेबल ग्लिसरीन था।
मोदी ने भी गिनाए E-Cigarette के नुकसान
कुल मिलाकर देखें तो भारत में E-Cigarette को पूरी तरह सै बैन कर दिया गया है। रविवार 29 सितंबर को अपने मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी युवाओं को E-Cigarette के खतरे के बारे में बताया और उनसे तंबाकू सेवन बंद करने की अपील की। मोदी ने कहा कि अधिकांश लोगों को ई-सिगरेट के खतरे के बारे में जानकारी नहीं है जबकि यह स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहद खतरनाक है। उन्होंने कहा, ‘E-Cigarette में कई खतरनाक केमिकल्स मिलाए जाते हैं। मैं आप सभी से आग्रह करता हूं कि तंबाकू का नशा छोड़ दें और E-Cigarette के बारे में कोई भी गलतफहमी न पालें।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *