कौन थे प्रशांत चंद्र महालनोबिस?

नई दिल्‍ली। आज गूगल का होमपेज खोलते ही आपको एक विशेष प्रकार की फोटो बतौर डूडल देखने को मिल रही होगी, डूडल के रूप में हमारे सामने आई इस फोटो के ज़रिए भारत के महान सांख्यिकीविद प्रशांत चंद्र महालनोबिस (Prasanta Chandra Mahalanobis) की 125वीं जयंति के मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर उन्हें सम्मान दिया है।

डूडल से इतर प्रशांत चंद्र महालनोबिस के कुछ ऐसे व्‍यवहार भी सामने आए जिसे अनुचित ही कहा जाना चाहिए और इसके शिकार बने सांख्‍यिकी में हार्वर्ड यूनीवर्सिटी में पढ़ाने का अपना बेमिसाल अनुभव रखने वाले डा. सुब्रहमण्‍यम स्‍वामी ने महालनोबिस की रिसर्च के कई आयामों को अपने तर्कों व शोधों से निष्‍क्रिय करार दिया था। नीचे दिये गए उनके पत्र को आप भी पढ़िये –

subrahmanyam swami letter about mahalnobis
subrahmanyam swami letter about mahalnobis

Prasanta Chandra Mahalanobis Google Doodle: भारत के महान सांख्यिकीविद और वैज्ञानिक प्रशांत चंद्र महालनोबिस की 125वीं जयंति के मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर उन्हें याद किया है। सांख्यिकी की फील्ड में अपने योगदान के चलते प्रशांत चंद्र महालनोबिस आज भी याद किए जाते है। महालनोबिस का जन्मदिवस 29 जून सांख्यिकी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

 

 

 

 

Prashant Chandra Mahalanobis की जयंती पर उनकी 10 बातें

1. प्रशांत चंद्र महालनोबिस (Prasanta Chandra Mahalanobis) का जन्म 29 जून, 1893 को कोलकाता में हुआ था. उनकी प्रारंभिक शिक्षा ब्राम्हो बॉयज स्कूल कोलकाता से हुई.
2. 1913 में उन्होंने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से भौतिकी और गणित दोनों विषयों से डिग्री हासिल की. वह एकमात्र छात्र थे, जिसने भौतिकी में पहला स्थान प्राप्त किया था.
3. कैंब्रिज छोड़ने के बाद वह प्रेसिडेंसी कॉलेज, कोलकाता से जुड़ गए थे जहां उन्होंने सांख्यिकी पढ़ने की शुरुआत की.
4. प्रशांत चंद्र महालनोबिस ने प्रेमाथा नाथ बनर्जी, निखिल रंजन सेन और आरएन मुखर्जी के साथ मिलकर 17 दिसंबर 1931 को भारतीय सांख्यिकी संस्थान (Indian Statistical Institute) की स्थापना की.
5. प्रशांत चंद्र महालनोबिस को पंचवर्षीय योजना के अपने मसौदे के कारण जाना जाता है.
6. साल 1949 में मंत्रिमंडल के सांख्यिकी सलाहकार बने. उन्होंने औद्योगिक उत्पादन की तीव्र बढ़ोतरी के जरिए बेरोजगारी को खत्म करने के लिए सराकार के प्रमुख उद्देश्य को पूरा करने के लिए योजना का खाका खींचा.
7. प्रशांत महालनोबिस (Prasanta Chandra Mahalanobis) डिस्‍टेंस का पता लगाने के लिए सबसे ज्‍यादा शोहरत मिली थी.
8. महालनोबिस ही ‘सैंपल सर्वे’ का कॉनसेप्ट लाए थे. जिसके आधार पर आज के समय में बड़ी-बड़ी नीतियां और योजनाएं बनाई जा रही हैं.
9. ​साल 1968 में महालनोबिस को पद्म विभूषण से नवाजा गया था.
10. 28 जून, 1972 को महान सांख्यिकीविद प्रशांत चंद्र महालनोबिसउन का निधन हो गया.
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »