गीता का उर्दू अनुवाद करने वाले शायर अनवर की पुण्‍यतिथि आज

6 जुलाई 1947 को उत्तर प्रदेश के अम्बेडकर नगर में जन्‍मे मशहूर उर्दू शायर अनवर जलालपुरी की आज पुण्‍यतिथि है। ‘यश भारती’ से सम्मानित अनवर साहब का इंतकाल 2 जनवरी 2018 के दिन प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हुआ था।
अनवर साहब ने 1968 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से अंग्रेज़ी में और 1978 में अवध विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में भी एमए किया।
अनवर जलालपुरी उर्दू, अरबी, फ़ारसी विश्वविधालय, नीरज शहरयार अवार्ड चयन कमेटी, यूपी राज्य उर्दू कमेटी से भी जुड़े रहे थे।
उन्होंने हिन्दू धार्मिक ग्रंथ ‘श्रीमद्‌भागवत गीता’ का उर्दू शायरी में अनुवाद किया था। उर्दू दुनिया की नामचीन हस्तियों में शुमार अनवर जलालपुरी मुशायरों की निजामत के बादशाह थे। मुशायरों की जान माने जाने वाले अनवर जलालपुरी ने ‘राहरौ से रहनुमा तक’, ‘उर्दू शायरी में गीतांजलि’ तथा भगवद्गीता के उर्दू संस्करण ‘उर्दू शायरी में गीता’ पुस्तकें लिखीं, जिन्हें बेहद सराहा गया। उन्होंने ‘अकबर द ग्रेट’ धारावाहिक के संवाद भी लिखे थे।
अनवर जलालपुरी की शख्‍सियत को बयां करते उनके कुछ शेर-

तुम अपने सामने की भीड़ से हो कर गुज़र जाओ
कि आगे वाले तो हरगिज़ न तुम को रास्ता देंगे

कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िंदगी क्या है
ज़मीं से एक मुट्ठी ख़ाक ले कर हम उड़ा देंगे

ज़ुल्फ़ को अब्र का टुकड़ा नहीं लिखा मैंने
आज तक कोई क़सीदा नहीं लिखा मैंने

मैंने लिख्खा है उसे मर्यम ओ सीता की तरह
जिस्म को उस के अजंता नहीं लिखा मैंने

तुम प्यार की सौग़ात लिए घर से तो निकलो
रस्ते में तुम्हें कोई भी दुश्मन न मिलेगा

सोते हैं बहुत चैन से वो जिन के घरों में
मिट्टी के अलावा कोई बर्तन न मिलेगा

न जाने क्यूं अधूरी ही मुझे तस्वीर जचती है
मैं काग़ज़ हाथ में लेकर फ़क़त चेहरा बनाता हूं

मिरी ख़्वाहिश का कोई घर ख़ुदा मालूम कब होगा
अभी तो ज़ेहन के पर्दे पे बस नक़्शा बनाता हूं

ग़लत कामों का अब माहौल आदी हो गया शायद
किसी भी वाक़ये पर कोई हंगामा नहीं होता

जो बा हिम्मत हैं दुनिया बस उन्हीं का नाम लेती है
छुपा कर ज़ेहन में बरसो मेरा ये तजरूबा रखना
गुलों के बीच में मानिन्द ख़ार मैं भी था
फ़क़ीर ही था मगर शानदार मैं भी था

अगर ख़ुशबू न निकले मेरे सपनों से तो क्या निकले
मेरे ख़्वाबों में अब भी तुम, तुम्हारी ज़ात बाक़ी है
-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *