कौन है पाक की नाक में दम करने वाली बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी?

पाकिस्तान के कराची स्टॉक एक्सचेंज में सोमवार को हुए हमले के लिए बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।
पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस हमले को अमेरिका और पाकिस्तान में प्रतिबंधित संगठन बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी के चार लोगों ने अंजाम दिया है।
बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी सेना के साथ मुठभेड़ में ये चारों लोग समेत कुल 10 लोग मारे गए हैं जिनमें तीन पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।
1970 के दशक में वजूद में आया संगठन
बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी की शुरुआत 1970 के दशक में ज़ुल्फ़िक़ार अली भुट्टो के शासनकाल में हुई थी। उस समय इस छोटे से संगठन ने बलूचिस्तान के इलाके में पाक सेना के नाक में दम कर रखा था। जब पाकिस्तान में सैन्य तानाशाह जियाउल हक सत्ता में आए तो उन्होंने बलूच नेताओं से बातचीत कर इस संगठन के साथ अघोषित संघर्ष विराम कर लिया। इस संगठन में मुख्य रूप से पाकिस्तान के दो ट्राइब्स मिरी और बुगती लड़ाके शामिल हैं।
परवेज मुशर्रफ के कार्यकाल से भड़का बलोचों का गुस्सा
उस समय से बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी काफी समय तक किसी बड़ी घटना को अंजाम नहीं दिया लेकिन जब परवेज मुशर्रफ ने पाकिस्तान में सत्ता संभाली तब साल 2000 के आसपास बलूचिस्तान हाईकोर्ट के जस्टिस नवाब मिरी की हत्या हो गई। पाकिस्तानी सेना ने सत्ता के इशारे पर इस केस में बलूच नेता खैर बक्श मिरी को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद से बलूच लिबरेशन आर्मी ने अपने ऑपरेशन को फिर से शुरू कर दिया।
2006 में पाक ने घोषित किया आतंकी संगठन
इसके बाद बलूचिस्तान के इलाके में पाकिस्तानी सेना और पुलिस पर हमलों की संख्या में जोरदार इजाफा देखने को मिला। पाकिस्तान सरकार ने 2006 में बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी को आतंकी संगठन घोषित कर दिया। पाकिस्तानी सरकार ने कहा कि यह संगठन कई आतंकी घटनाओं में शामिल रहा है और इसके नेता नवाबजादा बालाच मिरी के आदेश पर हमलों को अंजाम दिया।
हीरबयार मिरी को बनाया गया कमांडर
2007 में नवाबजादा बालाच मिरी के मौत के बाद उसके भाई हीरबयार मिरी को बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी की कमान सौंपी गई। हालांकि ब्रिटेन में रहने वाले हीरबयार मिरी ने कभी भी इस संगठन का मुखिया होने के दावे को स्वीकार नहीं किया। जिसके बाद असलम बलोच इस संगठन का सर्वेसर्वा बना।
सीपीईसी का विरोध, किए कई हमले
बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी ने हमेशा से चीन पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर का विरोध किया है। कई बार इस संगठन के ऊपर पाकिस्तान में काम कर रहे चीनी नागरिकों को निशाना बनाए जाने का आरोप भी लगे हैं। 2018 में इस संगठन पर कराची में चीन के वाणिज्यिक दूतावास पर हमले के आरोप भी लगे थे। दरअसल, पाकिस्तान ने बलूच नेताओं से बिना राय मशविरा किए बगैर सीपीईसी से जुड़ा फैसला ले लिया।
मुशर्रफ के इशारे पर की गई नवाब बुगती की हत्या
पाकिस्तानी सेना ने साल 2006 में परवेज मुशर्रफ के इशारे पर बलूचिस्तान के सबसे प्रभावशाली नेता नवाब अकबर बुगती की हत्या कर दी थी। मुशर्रफ को उनकी हत्या के मामले में साल 2013 में गिरफ्तार भी किया गया था। मुशर्रफ ने उस समय अपने बचाव में कहा था कि ये नेता तेल और खनिज उत्पादन में होने वाली आय में हिस्सेदारी की मांग कर रहे थे।
बलूचिस्तान की रणनीतिक स्थिति
पाकिस्तान में बलूचिस्तान की रणनीतिक स्थिति है। पाक से सबसे बड़े प्रांत में शुमार बलूचिस्तान की सीमाएं अफगानिस्तान और ईरान से मिलती है। वहीं कराची भी इन लोगों की जद में है। चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर का बड़ा हिस्सा इस प्रांत से होकर गुजरता है। ग्वादर बंदरगाह पर भी बलूचों का भी नियंत्रण था जिसे पाकिस्तान ने अब चीन को सौंप दिया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *