कोरोना वायरस के डेल्टा वैरियंट को लेकर WHO ने फिर दी चेतावनी

जिनेवा। कोरोना वायरस के डेल्टा वैरियंट को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO ने एक बार फिर चेतावनी दी है। इस बाद डब्लूएचओ के चीफ टेड्रोस अधनोम घेब्रेयेसस ने आगाह किया कि कोविड-19 का डेल्टा वैरियंट अब तक पाए गए सभी वैरियंट से सबसे अधिक संक्रामक है। उन्होंने यह भी बताया कि दुनियाभर के कम से कम 85 देशों में यह वैरियंट पाया गया है। उन्होंने कहा कि डेल्टा वैरियंट उन लोगों में तेजी से फैल रहा है, जिन्होंने अभी तक कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाई है।
दुनियाभर में डेल्टा वैरियंट को लेकर चिंता
डब्ल्यूएचओ महानिदेशक ने शुक्रवार को कहा कि मैं जानता हूं कि अभी विश्वभर में डेल्टा स्वरूप को लेकर काफी चिंता है और डब्ल्यूएचओ भी इसे लेकर चिंतित है। कोरोना वायरस का डेल्टा स्वरूप सबसे पहले भारत में पाया गया। उन्होंने जिनेवा में कहा कि अभी तक जितने भी स्वरूप पता चले हैं उनमें डेल्टा सबसे अधिक संक्रामक है और कम से कम 85 देशों में इसकी पहचान की गई है तथा यह उन लोगों में तेजी से फैल रहा है जिन्होंने टीके नहीं लगवाए हैं।
बढ़ते संक्रमण पर डब्लूएचओ ने जताई चिंता
उन्होंने कुछ देशों में जन स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों में ढील दिए जाने पर चिंता जताते हुए कहा कि हमें दुनियाभर में संक्रमण बढ़ते हुए दिखना शुरू हो गया है। ज्यादा मामलों का मतलब है अधिक संख्या में मरीजों का अस्पताल में भर्ती होना जिससे स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों और स्वास्थ्य व्यवस्था पर दबाव बढ़ेगा और मौत होने का खतरा बढ़ेगा।
वैक्सीन के समान आवंटन पर डब्लूएचओ का जोर
गेब्रेयेसस ने कहा कि कोविड-19 के नए स्वरूपों के आने की आशंका है और ये आते रहेंगे। उन्होंने कहा कि वायरस ऐसा ही करते हैं, वे पैदा होते रहते हैं लेकिन हम संक्रमण को फैलने से रोककर स्वरूपों को आने से रोक सकते हैं। डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा कि यह समझना आसान है कि अधिक संक्रमण फैलने का मतलब है अधिक स्वरूप आना और कम संक्रमण का मतलब है कि कम स्वरूप आना। उन्होंने कहा कि यही वजह है कि डब्ल्यूएचओ एक साल से कह रहा है कि टीकों का आवंटन समान रूप से होना चाहिए।
डब्लूएचओ के एक्सपर्ट ने भी डेल्टा वैरियंट को बताया खतरनाक
डब्ल्यूएचओ में कोविड-19 की टेक्निकल लीड डॉ. मारिया वान कर्खोव ने कहा कि डेल्टा स्वरूप एक खतरनाक वायरस है और अल्फा स्वरूप के मुकाबले अधिक संक्रामक है जो यूरोप तथा अन्य देश में खुद बहुत संक्रामक था। उन्होंने कहा कि कई यूरोपीय देशों में संक्रमण के मामलों में गिरावट आ रही है लेकिन बड़े पैमाने पर खेल या धार्मिक कार्यक्रम समेत अन्य कार्यक्रम भी हो रहे हैं। इन सभी गतिविधियों के परिणाम है और डेल्टा स्वरूप उन लोगों में तेजी से फैल रहा है जिन्होंने टीके नहीं लगवाए हैं।
डेल्टा के खिलाफ जंग में वैक्सीन ही प्रभावी उपाय
कर्खोव ने कहा कि कुछ देशों में टीके लगवाने वाले लोगों की अधिक संख्या है लेकिन फिर भी उन देशों की पूरी आबादी को अभी टीका नहीं लगा है और कई लोगों ने कोविड-19 रोधी टीके की दूसरी खुराक नहीं ली है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 रोधी टीके डेल्टा स्वरूप के खिलाफ गंभीर रूप से बीमार पड़ने और मौत होने से रोकने में काफी प्रभावी हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *