…जब ऑफीसर ने कहा- मैं Kalki अवतार हूं, आफिस नहीं आ सकता

राजकोट। आज बुजरात से एक अजीबोगरीबखबर सामने आई है जब एक ऑफीसर ने कहा- मैं Kalki अवतार हूं, आफिस नहीं आ सकता।

गुजरात सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ऑफिस नहीं आने के लिए बड़ा ही अजीबो-गरीब कारण बताया है। कार्यालय की ओर से उसे कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था।

यह अधिकारी सरदार सरोवर पुनर्वास एजेंसी में कार्यरत है और पिछले आठ महीने में केवल 16 दिन कार्यालय में उपस्थित रहा है।

यह अधिकारी सरदार सरोवर पुनर्वास एजेंसी के अधीक्षण अभियंता रमेश चंद्र फेफर हैं। उन्होंने एजेंसी की ओर से उन्हें भेजे गए कारण बताओ नोटिस के जवाब में कहा कि वह भगवान विष्णु का दशम अवतार कल्की है। वह ऑफिस नहीं आ सकता है क्योंकि वह ‘विश्व का अंत:करण बदलने के लिए’ तपस्या कर रहा है। फेफर ने कारण बताओ नोटिस का जवाब देते हुए कहा कि संस्थान ही नहीं पूरे देश को उसकी तपस्या को धन्यवाद देना चाहिए, कि देश में अच्छी बारिश हो रही है।

फेफर को जारी नोटिस और उसका विचित्र जवाब वायरल हो चुका है। राजकोट स्थित आवास पर फेफर ने मीडिया से कहा कि आप विश्वास नहीं करेंगे लेकिन मैं वस्तुत: भगवान विष्णु का दशम अवतार हूं और आने वाले दिनों में मैं इसे साबित कर दूंगा। मैं मार्च 2010 में कार्यालय में था तो मैंने महसूस किया कि मैं कल्कि अवतार हूं। तब से मेरे पास दिव्य शक्तियां हैं।

एजेंसी ने तीन दिन पहले फेफर को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। 50 साल से अधिक उम्र के फेफर ने एजेंसी को दो पन्नों में अपना जवाब भेजा है। उसने कहा कि वह कार्यालय नहीं आ सकता है क्योंकि वह तपस्या में लीन है। उसने कहा कि वह उम्र के पांचवें दशक में प्रवेश करने के साथ ही वैश्विक अंत:करण के बदलाव के लिए अपने घर में तपस्या कर रहा हूं। मैं आफिस में बैठ कर इस तरह की तपस्या नहीं कर सकता हूं।

अधिकारी ने दावा किया कि उसकी तपस्या के कारण ही भारत में पिछले 19 साल से अच्छी बारिश हो रही है। फेफर ने कहा कि अब यह सरदार सरोवर पुनर्वास एजेंसी को तय करना चाहिए कि एजेंसी के लिए मुझे आफिस में बैठा कर समय पास करवाना महत्वपूर्ण है कि देश को सूखे से बचाने के लिए कुछ ठोस काम करना। अधिकारी ने दावा किया, ‘क्योंकि मैं Kalki अवतार हूं इसलिए भारत में अच्छी बारिश हो रही है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »