WhatsApp का ग्रुप Admin, ग्रुप मेंबर्स की पोस्ट के लिए जिम्मेदार नहीं होगा

जालंधर। इंस्टैंट मैसेजिंग एप्प WhatsApp में किसी ग्रुप मैंबर द्वारा पोस्ट को सैंड करने पर ग्रुप एडमिन को जिम्म्मेदार नहीं माना जाएगा। राजस्थान उच्च न्यायालय ने एेसे मामले को लेकर ग्रुप एडमिन को अग्रिम जमानत देने के आदेश दिए है।

अापको बता दें कि जैसलमेर में पूजा गर्ग नाम की एक महिला ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि व्हाट्सएप्प ग्रुप में उसका फोटो डाल कर उसके खिलाफ कुछ अभद्र टिप्पण्यिां की गई है जिससे उन्हें काफी ठेस लगी है।

रिपोर्ट में पोस्ट करने वाले ग्रुप एडमिन महेन्द्र गर्ग और बृजेन्द्र गर्ग को अारोपी बनाया गया था। जिसके बाद महिलाओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी या व्यवहार के आरोप मे मामला दर्ज कर लिया था।

महेन्द्र ने इस मामले में अपनी गिरफ्तारी रूकवाने के लिए कोर्ट में अपील की। लेकिन निचली अदालत ने उसकी अपील को खारिज कर दिया था। जिसके बाद महेन्द्र ने हाईकोर्ट में अपील की जहां महेन्द्र को अग्रिम जमानत दे दी गई।

WhatsApp अब ग्रुप एडमिन्स को सुपर पावर देने की तैयारी कर रहा है

WhatsApp इस्तेमाल करनेवाले करोड़ों यूजर्स के लिए ये खबर बेहद अहम है।

WhatsApp अब ग्रुप एडमिन्स को सुपर पावर देने की तैयारी कर रहा है। WhatsApp की इस सुपर पावर के मिलने के बाद आप अपने ग्रुप एडमिन की परमिशन के बिना ग्रुप में कुछ भी नहीं कर पाएंगे।

WhatsApp ‘ग्रुप एडमिन’ को मिलेगी ये पावर

इन सेटिंग को केवल ग्रुप एडमिन ही सक्रिय कर सकता है।

इंस्टेंट मैसेजिंग एप WhatsApp ग्रुप एडमिनिस्ट्रेटर को और अधिकार देने की योजना बना रहा है। इस अधिकार के बाद ग्रुप एडमिन चाहे, तो वह ग्रुप के सदस्यों को ग्रुप में संदेश, फोटो, वीडियो, जीआईएफ, फाइल और वॉयस मैसेजेज पोस्ट करने से रोक सकेगा।

WeBetaInfo के मुताबिक, व्हाट्सएप ने गूगल प्ले बीटा प्रोग्राम पर वर्शन 2.17.430 में ‘प्रतिबंधित समूह’ फीचर्स दिया है।

इस सेटिंग को केवल ग्रुप एडमिन ही ठीक कर पाएगा। इसके बाद एडमिन तो ग्रुप में सामान्य तरीके से फोटो, वीडियो, चैट और अन्य चीजें भेज सकते हैं, लेकिन अन्य सदस्यों को ऐसा करने से रोक सकते हैं।

इस फीचर को पहली बार एंड्राइड पर देखा गया है। एक बार अगर नॉन-एडमिन यूजर के लिए चैट डिसेबल हो गई तो वह फिर WhatsApp ग्रुप में आने वाले मैसेज सिर्फ पढ़ पाएगा।

रिपोर्ट के अनुसार जब यूजर ग्रुप एडमिन को मैसेज करेगा तो व्हाट्सएप यह मैसेज एडमिन को ग्रुप की तरफ से रिप्लाई के रूप में भेजेगा। एडमिन हर 72 में ग्रुप रिस्ट्रिक्ट कर सकता है। हालांकि, इस लिमिट को व्हाट्सएप अपनी तरफ से बदल भी सकता है।

ग्रुप एडमिन द्वारा संदेश को स्वीकृति देने के बाद ही उसे ग्रुप में साझा किया जा सकेगा। व्हाट्सएप ने इसके अलावा आनेवाले अपडेट में उन्नत फीचर्स, बग फिक्स और सामान्य सुधार जारी करने की घोषणा की है।

WhatsApp के 1.2 अरब सक्रिय मासिक यूजर्स हैं और यह दुनिया भर में 50 भाषाओं में उपलब्ध है, जिसमें 10 भारतीय भाषाएं भी शामिल हैं।

-एजेंसी