सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल ने मनीषा कोइराला को क्‍या लिखा?

नई दिल्‍ली। भारत-नेपाल संबंधों पर बॉलीवुड अभिनेत्री मनीषा कोइराला के ट्वीट पर विवाद लगातार तेज़ हो रहा है. अब भारत विदेश मंत्री रहीं दिवंगत सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल ने उनके ट्वीट के जवाब में कई ट्वीट किए हैं.
स्वराज कौशल ने जो ट्वीट किए हैं, वो कुछ इस तरह हैं:
मैं आपसे बहस नहीं कर सकता मेरी बच्ची, मनीषा कोइराला. मैंने आपको हमेशा अपनी बेटी माना है. जब आपने हमें 1942-अ लव स्टोरी के प्रीमियर पर आमंत्रित किया था, तब मैं पूरी फ़िल्म देखने के लिए नहीं रुक पाया लेकिन सुषमा ने पूरी फ़िल्म देखी. उस वक़्त बांसुरी आपकी गोद में बैठी थी.
ये सिर्फ़ 27 साल पहले की बात है. 1977 और उसके बाद आप साउथ एक्स में रहने लगी थीं. आप साकेत के एपीजे स्कूल में पढ़ती थीं. आपके पिता प्रकाश कोइराला मेरे भाई जैसे हैं और आपकी मां सुषमा कोइराला मेरी भाभी और दोस्त रही हैं. हमने साथ-साथ मुश्किल हालात देखे हैं.
जिस दिन एम्स में आपके दादा बीपी कोइराला को कैंसर होने का पता चला, मैं उनके साथ ही था. मुझे याद है बीपी ने मुझसे कहा था, ” ये कैंसर की अडवांस स्टेज है और मेरे पास जीने के लिए सिर्फ़ छह महीने हैं.” उस वक़्त में दुखी था लेकिन उनके चेहरे पर निराशा का कोई भाव नहीं था.”
मैं आपके परिवार की गौरवशाली परंपरा से वाकिफ़ हूं. आपके दादा बीपी कोइराला और उनके दोनों भाई- यानी सभी तीनों भाई नेपाल के प्रधानमंत्री बने. आपकी बुआ शैलजा आचार्य नेपाल की उप प्रधानमंत्री थीं.
मैं ये भी जानता हूं कि आपके परिवार ने कितना संघर्ष किया है. आपके दादा बीपी कोइराला 18 साल तक जेल में थे. उनकी जान इसलिए बची क्योंकि हिंदू राष्ट्र नेपाल में एक ब्राह्मण को फाँसी नहीं दी जाती. आपकी बुआ (बीपी कोइराला की बेटी)ने भी जेल में आठ साल बिताए.
और अब मैं आपके पिता प्रकाश कोइराला के बारे में बताता हूं. वो नेपाली कांग्रेस के संघर्ष में उसके साथ थे. मैं सबके बारे में सोचता हूं. जेपी, लोहिया, चंद्रशेखर जी, जॉर्ज फ़र्नांडीस. साल 1973 में मैं भी कई हफ़्तों के लिए नेपाल में था और महल के अंदर आंगन में पहुंच गया था.
हम लोकतंत्र के लिए आपके संर्षष में आपके साथ थे. वहां भारत या भारतीयों जैसा कुछ भी नहीं था. एक बार जब आपका राजा से समझौता हो गया, हमें कुछ नहीं चाहिए था. जब हमें एक सांसद के तौर पर आपके विचारों का पता चला, हम दुखी हुए, लेकिन तब हमने सोचा कि वो नेपाली राजनीति की अनिवार्यता थी.
भारतीयों को मालूम होना चाहिए कि उस समय दुनिया के एकमात्र हिंदू राष्ट्र को ख़त्म करने की साज़िशें चल रही थीं. साज़िश करने वाले माओवादियों से मिले हुए थे. उन्होंने एकमात्र हिंदू राष्ट्र को ख़त्म कर दिया. उनका मिशन पूरा हो चुका था.
इसका नतीजा यह हुआ कि कम्युनिस्टों ने चीन को भारत के ख़िलाफ़ इस्तेमाल करना शुरू कर दिया. या फिर ऐसे कहें कि चीन ने कम्युनिस्टों को भारत के ख़िलाफ़ इस्तेमाल करना शुरू कर दिया. परिणामस्वरूप पारंपरिक रूप से हिमालय तक जाने वाली भारत-चीन सीमा अब बीरगंज तक है.
भारत की नेपाल से शिक़ायतें हो सकती हैं या नेपाल के भारत से गंभीर मसले हो सकते हैं. ये नेपाल और भारत के बीच की बात है. आप चीन को बीच में कैसे ला सकती हैं? ये हमारे लिए बुरा है. और ये नेपाल के लिए भी अच्छा नहीं है.
जब आप चीन को बीच में लाती हैं, आप हमारे साथ हज़ारों साल पुराने रिश्ते को ख़त्म कर रही हैं. आप हमारी पारस्परिक हिरासत को ख़त्म कर रही हैं. और सबसे ज़रूरी बात, एक संप्रभु देश के तौर पर आप अपने देश की स्थिति को भी नीचे गिरा रही हैं.
मनीषा कोइराला ने नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप गयावली के एक ट्वीट को रिट्वीट किया था.
नेपाल के विदेश मंत्री ने नेपाली में ट्वीट करके यह जानकारी सार्वजनिक की थी कि नेपाल की मंत्रिपरिषद ने लिम्पियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी को नए नक़्शे में शामिल करने का फ़ैसला किया है जो जल्द ही जारी किया जाएगा.
नेपाल के विदेश मंत्री ने नेपाली में ट्वीट करके यह जानकारी सार्वजनिक की थी कि नेपाल की मंत्रिपरिषद ने लिम्पियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी को नए नक़्शे में शामिल करने का फ़ैसला किया है जो जल्द ही जारी किया जाएगा.
इस ट्वीट के बाद मनीषा कोइराला ने नेपाल के पूर्व राजा ज्ञानेंद्र बिक्रम शाह के ट्वीट को रिट्वीट किया लेकिन उन्होंने इसमें कुछ लिखा नहीं था, इस पर भी लोगों ने उस पर मिली-जुली टिप्पणी की. नेपाल के पूर्व नरेश ने लिम्पियाधुरा, कालापानी और लिपुलेख को नए नक़्शे में शामिल किए जाने का समर्थन किया था.
नेपाली नागरिकता रखने वाली मनीषा कोइराला बॉलीवुड की जानी-मानी अभिनेत्री हैं. वो लगभग 30 साल से बॉलीवुड में सक्रिय हैं और नेपाल के राज-परिवार से संबंध रखती हैं. हाल ही में वो नेटफ़्लिक्स की मस्का फ़िल्म में नज़र आई थीं.
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *