क्या हैं कोरोना की रैपिड एंटीजन टेस्ट व आरटी-पीसीआर जांच

देश में कोरोना की जांच का दायरा बढ़ रहा है, ऐसे में कोविड-19 की जांच के लिए कई तरह के टेस्ट किए जा रहे हैं आरटी- पीसीआर, रैपिड एंटीजन टेस्ट और ट्रू नेट टेस्ट प्रचल‍ित हैं। आरटी- पीसीआर, रैपिड एंटीजन टेस्ट और ट्रू नेट टेस्ट में क्या अंतर है और कौन सी जांच कब कराई जाए।

आरटी- पीसीआर टेस्ट
कोरोना वायरस की जांच का तरीका है। इसमें वायरस के आरएनए की जांच की जाती है। आरएनए वायरस का जेनेटिक मटीरियल है। इसमें नाक एवं गले के तालू से स्वैब लिया जाता है। ये टेस्ट लैब में ही किए जाते हैं।
रिजल्ट आने में 12 से 16 घंटे का समय लगता है।
एक्यूरेसी कितनी है : टेस्टिंग की इस पद्धति की विश्वसनीयता लगभग 60% है। कोरोना संक्रमण के बाद भी टेस्ट निगेटिव आ सकता है। मरीज को लक्षणिक रूप से भी देखा जाना जरूरी है।

रैपिड एंटीजन टेस्ट (रैट)
कोरोना संक्रमण के वायरस की जांच की जाती है। नाक से स्वैब लिया जाता है। वायरस में पाए जाने वाले एंटीजन का पता चलता है। रिजल्ट आने में  20 मिनट का समय लगता है, इसकी  एक्यूरेसी अगर टेस्ट पॉजिटिव है तो इसकी विश्वसनीयता लगभग 100% है मगर 30-40 % मामलों में यह निगेटिव रह सकता है। उस स्थिति में आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जा सकता है।

ट्रू नेट टेस्ट

ट्रू नेट मशीन के द्वारा न्यूक्लिक एम्प्लीफाइड टेस्ट किया जाता है। अभी इस मशीन से टीबी व एचआईवी संक्रमण की जांच की जाती है। अब कोरोना का स्क्रीन टेस्ट किया जा रहा है।
नाक या गले से स्वैब लिया जाता है। इसमें वायरस के न्यूक्लियिक मटीरियल को ब्रेक कर डीएनए और आरएनए जांचा जाता है।
रिजल्ट आने में कितना समय लगता है तीन घंटे और 60 से 70 % मरीजों में कोरोना के संक्रमण की संभावना को बताता है। निगेटिव होने पर आरटी-पीसीआर किया जा सकता है।

एंटीबॉडी टेस्ट

यह शरीर में पूर्व में हुए कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच के लिए किया जाने वाला टेस्ट है। संक्रमित व्यक्ति का शरीर लगभग एक सप्ताह बाद लड़ने के लिए एंटीबॉडी बनाता है। 9वें दिन से 14वें दिन तक एंटीबॉडी बन जाती है। इसमें खून का सैंपल लेकर किया जाता है।रिजल्ट आने में एक घंटा लगता ।
एक्यूरेसी : कोरोना वायरस की मौजूदगी का सीधा पता नहीं चलता। केवल एंटीबॉडी की उपस्थिति की जानकारी मिलती है। इससे यह पता चलता है कि व्यक्ति को कभी इंफेक्शन हो चुका है। संक्रमण बहुत हल्का होने पर कभी कभी एंटीबॉडी टेस्ट में नहीं पाई जाएगी।

Health Desk : Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *