फेयर एंड लवली से ‘फेयर’ हटाए जाने का स्वागत, क‍िस सेलेब्र‍िटी ने क्या कहा

नई द‍िल्ली। अमेर‍िका में अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉड की हत्या के बाद से चले #blacklivesmatter मूवमेंट के चलते नस्लवाद की आलोचना से घ‍िरी ह‍िंदुस्तान यूनीलीवर कंपनी ने अपने फेयरनेस प्रोडक्ट फेयर एंड लवली से फेयर शब्द हआने का फैसला क‍िया ज‍िसका क‍ि आज कई सेलेब्र‍िटीज ने स्वागत क‍िया है।
हालांक‍ि हिंदुस्तान यूनिलीवर ने काफी आलोचना के बाद अपनी फेयरनेस क्रीम फेयर एंड लवली से फेयर शब्द हटाने का फैसला किया है। हिंदुस्तान यूनिलीवर के इस फैसले के बाद सोशल मीडिया पर #FairandLovely ट्रेंड करने लगा। कई सेलिब्रिटीज ने कंपनी के इस फैसले का स्वागत किया, बिपाशा बसु (Bipasha Basu), कंगना रनौत से लेकर सुहाना खान ने अपनी त्वचा के रंग और रंगभेद को लेकर अपने विचार भी रखे हैं।

सुहाना खान ने कहा- 
फेयर एंड लवली से फेयर हटने की सुहाना खान ने भी सराहना की है। सुहाना खान ने अपने इंस्टाग्राम स्टोरी पर इस बात की जानकारी दी है। सुहाना के पिता शाहरुख खान खुद फेयर एंड हैंडसम के ब्रांड एंबेसडर हैं। साल 2018 में फेयरनेस क्रीम पर हुए विवाद के बाद शाहरुख खान ने कहा था, ‘मैं ईमानदारी से कहूंगा। मेरी बेटी सांवली है लेकिन वो दुनिया की सबसे खूबसूरत लड़की है।’

बिपासा बसु ने कहा- 
फेयर एंड लवली से फेयर हटने का बिपासा बसु ने भी स्वागत करते हुए  इस पर लिखा, ‘मैं जब बड़ी हो रही थी तो जो मुझे अक्सर ही ये सुनने को मिलता था कि बोनी, सोनी से ज्यादा डार्क है। वो थोड़ी सांवली है ना? मेरी मां भी सांवले रंग की खूबसूरत महिला रही हैं। मैं काफी हद तक अपनी मां की तरह दिखती हूं। मुझे कभी ये समझ नहीं आया कि जब मैं छोटी थी तो रिश्तेदार रंग को लेकर इतनी चर्चा क्यों करते थे। मेरी त्वचा का रंग मेरी पहचान है। मुझे बचपन से ही अपने ऊपर गर्व था कि मैं कौन हूं। मुझे अपने रंग से प्यार है और इसे मैं कभी खत्म नहीं करना चाहती हूं। मुझे पिछले 18 सालों में कई फेयरनेस क्रीम के विज्ञापन का ऑफर आया जो मुझे मोटे पैसे दे रहे थे, लेकिन मैं हमेशा अपने सिद्धांतों पर कायम रही। इसे रोकने की जरूरत है। हम इस क्रीम के जरिए लोगों को गलत सपना बेच रहे हैं। देश में अधिकांश लोग सांवले ही हैं। ये इस ब्रांड का बेहतरीन कदम है। बाकी कंपनी को भी इसे फॉलो करना चाहिए।’

अभय देओल ने कहा- 

‘हमें सही दिशा में ले जाने में #blacklivesmatter आंदोलन का हाथ है लेकिन कोई गलती ना करें, इस सांस्कृतिक बदलाव पर अपनी आवाज को मुखर रखें। इस जीत में अपना योगदान दें। अपनी खूबसूरती को लेकर अभी हमें लंबा रास्ता तय करना है। सही दिशा में अभी हमने छोटा सा कदम आगे बढाया है। लंबी दूरी की ये एक छोटी सी शुरुआत है। बेहद खूबसूरत शुरुआत।’

कंगना रनौत ने कहा – 
‘ये एक लंबी और कभी-कभी बेहद अकेली लड़ाई रही है, लेकिन परिणाम तब निकलता है जब पूरा देश आंदोलन में भाग लेता है।’ आपको बता दें कंगना रनौत ने एक फेयरनेस क्रीम के प्रचार का ऑफर ठुकरा दिया था, जिसके लिए उन्हें 2 करोड़ मिल रहे थे। कंगना को इस बात का कोई पछतावा नहीं है।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *