WEF का दावा: कार्यस्थल पर स्त्री-पुरुष के बीच समानता आने में अभी सदियां लगेंगी

जिनेवा। विश्व आर्थिक मंच WEF ने मंगलवार को जारी अपनी रिपोर्ट में कहा कि 2017 के मुकाबले इस साल वेतन समानता के मोर्चे पर कुछ सुधार हुआ है लेकिन राजनीति में महिलाओं का घटता प्रतिनिधित्व और शिक्षा एवं स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच में असामनता के चलते यह सुधार धूमिल हो गये हैं।
बता दें कि महिलाएं लंबे समय से कार्यस्थल पर समान व्यवहार और वेतन की मांग कर रही हैं। WEF ने चेताया है कि स्त्री-पुरुष के बीच समानता के लक्ष्य को हासिल करने में अभी सदियां लगेंगी।
WEF ने पाया कि मौजूदा समय में जिस दर से सुधार किये जा रहे हैं उस हिसाब से दुनिया भर के सभी क्षेत्रों में मौजूद स्त्री-पुरुष असमानता को अगले 108 सालों में दूर नहीं किया जा सकेगा जबकि कार्यस्थल पर असमानता को खत्म करने में 200 साल लगने की उम्मीद है।
आइसलैंड में सबसे ज्यादा समानता
स्त्री पुरुष समानता के मामले में एक बार नॉर्डियक देश शीर्ष पर है। सबसे ज्यादा समानता आइसलैंड में है। उसके बाद नोर्वे, स्वीडन और फिनलैंड है। सर्वेक्षण में सीरिया, इराक, पाकिस्तान और अंत में यमन सबसे नीचे रहा। डब्ल्यूईएफ ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में 149 देशों में स्त्री-पुरुष के बीच चार क्षेत्रों में मौजूद असमानताओं का जिक्र किया है।
ये क्षेत्र शिक्षा, स्वास्थ्य, आर्थिक अवसर और राजनीतिक सशक्तिकरण हैं। मंच ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य और राजनीतिक भागीदारी में पिछले वर्षों में सुधार हुआ था। हालांकि, इस साल इन तीनों क्षेत्रों में महिलाओं की स्थिति में गिरावट रही।
सिर्फ आर्थिक अवसरों के क्षेत्र में स्त्री-पुरुष असामनता को कम करने में कुछ प्रयास किये गये हैं। हालांकि वैश्विक स्तर पर वेतन में अंतर मामूली कम होकर करीब 51 प्रतिशत है।
WEF ने कहा कि वैश्विक स्तर पर नेतृत्व की भूमिका में महिलाओं की संख्या बढ़कर 34 प्रतिशत हो गयी है। रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि पश्चिमी यूरोपीय देश स्त्री-पुरुष असमानता को 61 वर्षों में पाट सकते है। पश्चिमी एशिया और उत्तरी अफ्रीका को इसमें 153 साल लगेंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »