हम निश्चित तौर पर सीरीज जीतने जा रहे हैं: विराट कोहली

लंदन। ‘जा रहे हैं का मतलब, कोशिश थी कि हम पहले टेस्ट में ही लीड लें। हम तो निश्चित तौर पर सीरीज जीतने जा रहे हैं। हमारी तरफ से 100 पर्सेंट नहीं 120 पर्सेंट कोशिश होगी। हम पांच टेस्ट तक के लिए मानसिक तौर पर तैयार हैं। हमारे पास वह जरूरी स्किल भी हैं जिसकी बदौलत हम यहां से सीरीज जीत के जाएं।’
यह जवाब था टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का, मीडिया की ओर से पूछे गए उस सवाल पर जिसमें पूछा गया था कि क्या वह सीरीज जीतने जा रहे हैं।
लॉर्ड्स टेस्ट की पूर्व संध्या पर दोनों खेमों से चोट की खबरें थीं लेकिन टीम इंडिया के कप्तान और खिलाड़ियों की बॉडी लैंग्वेज से कुछ पढ़ा जा सकता था तो यही था कि वह काफी पॉजिटिव थे। उधर, इंग्लिश खेमे में स्टार पेस बॉलर स्टुअर्ट ब्रॉड के सीरीज से बाहर हो जाने और जेम्स एंडरसन के भी चोटिल होने की खबरों से हड़कंप था।
शार्दुल की जगह अश्विन को नहीं
ऐसा अनुमान था कि विराट चोटिल शार्दुल ठाकुर की जगह अपने सर्वश्रेष्ठ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को खिलाने पर गंभीरता से विचार कर रहे होंगे। हालांकि भारतीय कप्तान ने मैच की पूर्व संध्या पर ऐसा कुछ संकेत नहीं दिया। उनकी बातों से मतलब निकालें तो शायद अश्विन को इस टेस्ट में भी बाहर बैठना पड़ेगा।
विराट ने कहा, ‘अच्छी चीज यह है कि रविंद्र जडेजा पहले टेस्ट में रन बना चुके हैं और वह दूसरे मैच में अधिक आत्मविश्वास के साथ उतरेंगे। हमारी बैटिंग में पहले ही गहराई है और लोअर ऑर्डर भी बैट से योगदान दे रहा है।’ उन्होंने आगे कहा, ‘हां, शार्दुल की बैटिंग में अधिक क्षमता है लेकिन चेतेश्वर पुजारा, जिंक्स (अजिंक्य रहाणे) और मैंने काफी रन नहीं बनाए।’
कप्तान ने कहा कि वह ठाकुर के विकल्प पर फैसला करते समय बल्लेबाज क्षमता पर अधिक गौर नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, ‘प्रत्येक मैच अन्य बल्लेबाजों के लिए मौका होता है कि वे जिम्मेदारी संभालें। रोहित और लोकेश राहुल काफी अच्छा खेले और एक बैटिंग यूनिट के रूप में अपनी स्थिति को लेकर हम काफी सहज थे और हमें नहीं लग रहा कि अगर शार्दुल नहीं खेलते हैं तो हमारे पास एक बल्लेबाज कम रहेगा।’
4-1 का कॉम्बिनेशन
विराट ने बताया कि उम्मीद है कि शार्दुल तीसरे टेस्ट तक ठीक हो जाएंगे। कोहली यदि चार तेज गेंदबाजों के साथ ही उतरना चाहेंगे तो फिर ठाकुर की जगह पर ईशांत शर्मा या उमेश यादव में से किसी एक को लिया जाएगा।
कोहली ने पहले टेस्ट के बाद कहा था, ‘पूरी संभावना है कि हम इसके (4-1 के कॉम्बिनेशन) साथ ही आगे बढ़ेंगे लेकिन हम हमेशा परिस्थितियों को ध्यान में रखकर टीम का सिलेक्शन करते हैं।’ लेकिन यदि कप्तान अपनी बैटिंग को मजबूत देखना चाहते हैं तो फिर अश्विन को अंतिम इलेवन में रखना सही फैसला होगा।
चौथे या पांचवें दिन लॉर्ड्स की पिच पर स्पिन बोलर्स की मददगार साबित हो सकती है। लंदन में इन दिनों अधिकतम तापमान 24 डिग्री और औसत तापमान लगभग 14 डिग्री चल रहा है। यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या इंग्लैंड 2018 की तरह यहां पिच पर घास छोड़ता है क्योंकि तब भारतीय बल्लेबाजी दो दिन में ढह गई थी और ऑलराउंडर क्रिस वोक्स इंग्लैंड की जीत के नायक बने थे। यदि पिच सूखी रहती है तो भारत अश्विन और जाडेजा दोनों को टीम में रख सकता है जो कि अपनी विविधतापूर्ण गेंदबाजी से इंग्लैंड के बल्लेबाजों को परेशानी में डाल सकते हैं।
ब्रॉड सीरीज से बाहर
मेजबान टीम को उस वक्त तगड़ा झटका लगा जब उसके अनुभवी फाल्ट बोलर स्टुअर्ट ब्रॉड सीरीज से बाहर हो गए। ब्रॉड को दाएं पैर की पिंडलियों में गंभीर चोट है। दर्द महसूस होने के बाद बुधवार को स्कैन से पता लगा कि उनकी चोट ज्यादा है और उन्हें उबरने में वक्त लगेगा। वह पूरी टेस्ट सीरीज से बाहर रहेंगे। ब्रॉड की जगह फास्ट बोलर साकिब महमूद को टीम में शामिल किया गया है। उधर, जेम्स एंडरसन भी पूरी तरह फिट नहीं बताए जा रहे हैं। ऐसे में इंग्लैंड के सामने इलेवन चुनते समय कई सवाल होंगे।
दोनों टीमों के पॉइंट्स कटे
आईसीसी ने नॉटिघम में पहले टेस्ट मैच में धीमी ओवर गति के लिए दोनों टीमों पर मैच शुल्क का 40 प्रतिशत जुर्माना लगाने के अलावा उनके आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के दो-दो अंक भी काट दिए हैं। इन दोनों टीमों ने नियत समय में दो-दो ओवर कम किए थे जिसके बाद आईसीसी मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड ने उन पर यह जुर्माना लगाया। भारतीय कप्तान ने कहा कि एक-एक महत्वपूर्ण है और इन बातों का आगे ख्याल रखना होगा।
लॉर्ड्स पर टीम का रेकॉर्ड खराब
भारतीय टीम का इतिहास लॉर्ड्स पर अच्छा नहीं रहा है। उसने यहां अब तक खेले गए 18 टेस्ट मैच में से सिर्फ दो ही मुकाबले जीते हैं। भारत को यहां आखिरी बार 2014 के दौरे पर जीत मिली थी, जो उसे 1986 के बाद 28 वर्षों के बाद मिली थी। भारत के टॉप बल्लेबाज कप्तान विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा का इस वेन्यू पर रेकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं रहा है।
कोहली, पुजारा और रहाणे ने लॉर्ड्स मैदान पर दो-दो टेस्ट मैच खेले हैं। कोहली का औसत 16.25, पुजारा का 22.25 और रहाणे का औसत 34.75 का है। रहाणे ने हालांकि 2014 में शतक जड़ा था।
भारत के इन टॉप बल्लेबाजों में छह पारियों में यहां सिर्फ एक शतक लगा है। रोहित शर्मा लॉर्ड्स पर पहली बार टेस्ट मैच खेलेंगे। भारत इस टेस्ट में अनुभवी फास्ट बोलर ईशांत शर्मा को मौका दे सकता है। ईशांत ने 2014 में यहां भारत को मिली जीत में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने 23 ओवर में 74 रन देकर सात विकेट लिए थे और भारत को 95 रनों से जीत दिलाई थी।
नंबर्स गेम
27 विकेट रविचंद्रन अश्विन ने लिए हैं जो दोनों के बीच हुए पिछली पांच भिड़ंत में किसी भी गेंदबाज का सर्वाधिक विकेट है।
25 रन लॉर्ड्स मैदान पर विराट कोहली का टॉप स्कोर है। विराट ने इस मैच पर अभी तक सिर्फ दो मैच खेले हैं।
इंग्लैंड का रेकॉर्ड बेहतर
आपसी रेकॉर्ड की बात करें तो भारत और इंग्लैंड के बीच कुल 127 टेस्ट मैच हुए हैं जिसमें से भारत ने 29 और इंग्लैंड ने 48 जीते हैं। वहीं 50 टेस्ट मैच ड्रॉ रहे हैं।
इंग्लैंड में भारतीय टीम का प्रदर्शन
यहां भी मेजबान टीम का प्रदर्शन भारी है। इंग्लैंड ने 63 में से 34 मुकाबले जीते हैं वहीं भारत ने सिर्फ सात। वहीं 22 मैच ड्रॉ रहे हैं।
मौजूदा टेस्ट रैंकिंग
मौजूदा टेस्ट रैंकिंग की बात करें तो भारत दूसरे और इंग्लैंड चौथे स्थान पर है।
पिच और मौसम
पिच पर थोड़ी सी घास है लेकिन टॉस जीतने वाली टीम फिर भी बैटिंग करना चाहेगी। नॉटिंगम की तरह बारिश के आसार नहीं हैं लेकिन आसमान में बादल छाए रहेंगे। सिर्फ चौथा दिन बारिश से प्रभावित हो सकता है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *