वॉकिंग स्पीड तय करती है आपका अनुमानित जीवनकाल

आपका अनुमानित जीवनकाल यानी आपका कितना जिएंगे यह इस बात पर निर्भर करता है आपकी वॉकिंग स्पीड क्या है। अगर आप आदतन तेज गति से चलते हैं तो आपका जीवन लंबा होगा। ऐसा एक स्टडी में बताया गया है।
हाल ही में हुई एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि वैसे लोग जो धीमी गति से चलते हैं उनका अनुमानित जीवनकाल उन लोगों की तुलना में कम होता है जो तेज गति से चलते हैं। मेयो क्लिनिक प्रोसिडिंग्स नाम के जर्नल में ये स्टडी प्रकाशित की गई है।
तेज गति से चलने वालों का जीवनकाल लंबा
इस स्टडी के मुताबिक वैसे लोग जो आदतन तेज गति से चलते हैं उनका अनुमानित जीवनकाल लंबा होता है। फिर चाहे उनका वजन सामान्य से कम हो या फिर वे मोटापे का शिकार हों, इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता। वैसे लोग जिनका वजन सामान्य से कम है यानी जो अंडरवेट हैं और धीमी गति से चलते हैं उनका अनुमानित जीवनकाल सबसे कम होता है। ऐसे पुरुष औसतन 64.8 साल जीते हैं जबकी महिलाएं 72.4 साल।
वजन से ज्यादा फिजिकल ऐक्टिविटी है इम्पोर्टेंट
इस स्टडी के लीड ऑथर प्रोफेसर टॉम येट्स कहते हैं, हमारी स्टडी के नतीजे इस बात को स्पष्ट करने में मदद कर सकते हैं कि किसी व्यक्ति का जीवन कितना लंबा होगा, यह उसके बॉडी वेट से कहीं ज्यादा उसकी फिजिकल फिटनेस पर निर्भर करता है। दूसरे शब्दों में कहें तो स्टडी के नतीजे सुझाव देते हैं कि जब बात लाइफ एक्सपेक्टेंसी यानी अनुमानित जीवनकाल की होती है तो फिजिकल फिटनेस, बॉडी मास इंडेक्स (bmi) की तुलना में इसे ज्यादा बेहतर तरीके से इंडिकेट करता है। लिहाजा अगर लोगों को ब्रिस्क वॉकिंग यानी तेज गति से चलने के लिए प्रोत्साहित किया जाए तो इससे उनकी उम्र बढ़ाने में मदद मिल सकती है।
धीमी गति से चलने वालों को दिल की बीमारी का खतरा
पिछले साल भी प्रोफेसर येट्स की टीम ने एक स्टडी की थी जिसमें यह बात सामने आयी थी कि वैसे मिडिल एज लोग जो स्लो वॉकर हैं यानी धीमी गति से चलते हैं उनमें दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा आम लोगों की तुलना में कहीं अधिक होता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »