ईवीएम तथा VVPAT मशीन से मतदान की जानकारी दी

संस्कृति यूनिवर्सिटी मथुरा के छात्र-छात्राओं को ईवीएम तथा VVPAT की जानकारी के बाद मतदान के लिए किया प्रेरित

मथुरा। आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए गुरुवार को भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों के परिपालन में मथुरा की स्वीप समन्वयक डा. पल्लवी सिंह, एस.एल.एम.टी. डा. सतनाम अरोड़ा और मनीष दयाल द्वारा मतदाता जागरूकता अभियान स्वीप कार्यक्रम के तहत संस्कृति यूनिवर्सिटी के छात्र-छात्राओं तथा विभिन्न संकाय के प्राध्यापकों को ई.वी.एम. तथा VVPAT मशीन से मतदान प्रक्रिया के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई।

गुरुवार को संस्कृति यूनिवर्सिटी के सेमिनार हाल में मथुरा की मास्टर ट्रेनर्स टीम ने छात्र-छात्राओं और प्राध्यापकों को ई.वी.एम. व VVPAT मशीन के बारे में जानकारी देते हुए उनसे मॉक पोल करवाया गया तथा बताया गया कि आपने जिस उम्मीदवार को मत दिया है, उसकी एक स्लिप VVPAT के स्क्रीन पर सात सेकेण्ड के लिए प्रदर्शित होगी। स्वीप समन्वयक डा. पल्लवी सिंह और डा. सतनाम सिंह ने बताया कि आगामी लोकसभा चुनाव में सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश में EVM और VVPAT मशीन के माध्यम से ही चुनाव होंगे, लिहाजा इस प्रणाली की विश्वसनीयता की जानकारी सभी को होना जरूरी है।

मास्टर ट्रेनर डा. सतनाम अरोड़ा ने कहा कि मतदाताओं की सभी शंकाओं के समाधान हेतु भारत निर्वाचन आयोग द्वारा वी.वी.पेट नामक एक नई यूनिट को ई.वी.एम. मशीन के साथ जोड़ा गया है। मतदान के दौरान मतदाता द्वारा डाले गए वोट की एक पर्ची सात  सेकेण्ड के लिए मतदाता को VVPAT मशीन की स्क्रीन पर दिखाई देगी। इसमें मतदाता का क्रमांक, उसका नाम एवं चुनाव चिह्न दिखाई देगा, जिससे मतदाता उस पर्ची को देखकर अपने मतदान से संतुष्ट हो सकेगा कि उसके द्वारा दिया गया मत सही व्यक्ति के पक्ष में ही गया है। इस मौके पर डा. ओमप्रकाश जसूजा सहित अधिकांश छात्र-छात्राओं ने VVPAT मशीन की बारीकियों से अवगत होते हुए निर्वाचन आयोग की प्रशंसा की गई।

इस अवसर पर स्वीप समन्वयक डा. पल्लवी सिंह ने छात्र-छात्राओं का आह्वान किया कि वे 18 अप्रैल को होने जा रहे मथुरा लोकसभा चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करें ताकि भारतीय लोकतंत्र को मजबूत किया जा सके। डा. पल्लवी ने छात्र-छात्राओं की शंकाओं का समाधान करते हुए कहा कि ई.वी.एम. और VVPAT मशीन में किसी भी प्रकार की कोई गड़बड़ी नहीं की जा सकती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »