इंडोनेशिया में ज्वालामुखी विस्फोट: 13 लोगों की मौत और दर्जनों घायल

इंडोनेशिया के सेमेरू ज्वालामुखी विस्फोट में कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई है और दर्जनों लोग घायल हुए हैं. ये जानकारी इंडोनेशिया के अधिकारियों ने दी है.
इंडोनेशिया की आपदा राहत एजेंसी बीएनपीबी ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया है कि घटनास्थल पर फंसे दस लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है.
जावा द्वीप के सबसे ऊंचे पर्वत सेमेरू पर शनिवार को ज्वालामुखी फटा जिससे राख, काला धुंआ और लावा तेज़ी से बाहर आने लगा जो पूर्वी जावा प्रांत के आस-पास के गांवों में फैल गया, इससे लोगों के बीच अफ़रा-तफ़री का माहौल पैदा हो गया.
अधिकारियों ने कहा है कि विस्फोट ने लुमाजांग ज़िले के दो क्षेत्रों को मलंग शहर से जोड़ने वाले पुल को क्षतिग्रस्त कर दिया है और इस इलाके की इमारतों को तहस-नहस कर दिया.
बीएनपीबी के अधिकारी अब्दुल मुहरी ने एक प्रेस रिलीज़ जारी कर कहा कि ज्वालामुखी के विस्फोट में 13 लोगों की मौत हो गई, जिनमें से अब तक दो की पहचान ही हो सकी है.
बयान में बताया गया है कि दो गर्भवती महिलाओं सहित 98 लोग इस हादसे में घायल हुए हैं और ज़्यादातर लोग जलने के कारण ज़ख्मी हुए हैं.
राहत एवं बचाव एजेंसी के एक अन्य अधिकारी ने स्थानीय समाचार चैनल मेट्रो टीवी को बताया कि राहत बचाव कार्य रोक दिया गया है क्योंकि गर्म बादलों के कारण काम करने में परेशानी हो रही है.
एक अन्य अधिकारी ने बताया कि भारी चट्टानों और गर्म ज्वालामुखी के कारण हमें राहत बचाव अभियान सीमित करना पड़ा है.
इंडोनेशिया के परिवहन मंत्रालय ने रविवार को बताया कि विस्फोट के कारण उड़ानें बाधित नहीं हुई हैं. हालांकि, पायलटों को एशफ़ाल (राख के फव्वारे) से सावधान रहने के लिए सतर्क कर दिया गया है.
12,000 फ़ीट से अधिक ऊंचा सेमेरू पर्वत, इंडोनेशिया के लगभग 130 सक्रिय ज्वालामुखियों में से एक है. इससे पहले यह ज्वालामुखी जनवरी में फटा था लेकिन इस दौरान कोई हताहत नहीं हुआ.
इंडोनेशिया “पैसिफिक रिंग ऑफ फायर” से घिरा हुआ है, जो एक अत्यधिक भूकंप सक्रिय क्षेत्र है, जहां धरती के क्रस्ट पर अलग-अलग प्लेटें मिलती हैं और बड़ी संख्या में भूकंप और ज्वालामुखी पैदा करती हैं.
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *