वोडाफोन, नैसकाॅम व वीएसओ ने लांच किया VIBE

VIBE (Volunteer, Inspire, Begin & Engage) Volunteer को प्रेरित करने के लिए आधुनिक डिजिटल समाधान है Volunteer, Inspire, Begin & Engage

नई दिल्ली। भारत की प्रमुख दूरसंचार कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के वोडाफोन फाउन्डेशन ने नैसकाॅम फाउन्डेशन और वीएसओ के साथ साझेदारी में आज एक अनूठे मोबाइल आधारित डिजिटल समाधान ‘VIBE’ का लाॅन्च किया है। टप्ठम् वाॅल्यूटियरिंग (स्वयंसेवा) के प्रयासों को बढ़ावा देगा और स्वयंसेवियों को इसके लिए प्रोत्साहित करेगा। श्री अरूण गोयल, सचिव, संस्कृति मंत्री, भारत सरकार इस लाॅन्च के मौके पर मौजूद थे।

संगठित वाॅल्यूटियरिंग (स्वयंसेवा) भारत के्र सामाजिक व आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। यह कोरपोरेट्स को विशेष प्रयोजन के लिए स्वयंसेवी प्रयासों के लिए प्रोरित करती है, उनकी उत्पादकता बढ़ाने में मदद करती है, संगठनों में टीम निर्माण एवं प्रतिभा के विकास को बढ़ावा देती है। अगर विकास क्षेत्र की बात करें त¨ यह दृष्टिकोण संगठनों को समुदाय की ज़रूरतों को समझने, विशेष कौशल विकसित करने में मदद करता है और उन्हें बेहतर परिणाम देने में सक्षम बनाता है।

वाॅल्यूटियरिंग (स्वयंसेवा) के पैमाने को बढ़ाने और इसके सकारात्मक प्रभावों को प्रोत्साहित करने के लिए वाईब को पेश किया गया है जो समुदायों के लिए बेहद फायदेमंद होगा। इस व्यापक वेब आधारित आॅनलाईन डैशबोर्ड का इस्तेमाल मोबाइल के माध्यम से किया जा सकता है, यह स्वयंसेवी (वाॅल्यून्टीयर) को उन कोरपोरेट्स एवं संगठनों- एनजीओ, ट्रस्ट, सामाजिक उद्यमों- के साथ जोड़ता है जो अपने कार्यबल को वाॅल्यूटियरिंग (स्वयंसेवा) के अवसर प्रदान करना चाहते हैं।

वीएसओ-वाईब का लाॅन्च करते हुए अरूण गोयल, सचिव, संस्कृति मंत्री, भारत सरकार ने कहा, ‘‘वाॅल्यूटियरिंग (स्वयंसेवा) हमारे देश की कई मुश्किल चुनौतियों को हल कर सकती है। भारत में प्रतिभाशाली स्वयंसेवियों की बड़ी संख्या देश के गंभीर मुद्दों से निपटने की क्षमता रखती है। मैं इस ऐप को बनाने वालों का धन्यवाद करना चाहूंग, जिन्होंने संस्थानों, एनजीओ और स्वयंसेवियों को एक ही मंच पर लाने के लिए डिजिटल इंटरफेस पेश किया है। मुझे विश्वास है कि यह समाधान अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि साबित होगा।’’

इस मौके पर पी बालाजी, चीफ, रेग्युलेटरी एवं कोरपोरेट अफेयर आॅफिसर, वोडाफोन आइडिया लिमिटेड ने कहा, ‘‘वोडाफोन आइडिया में हम ऐसी आधुनिक तकनीकों के लिए प्रतिबद्ध हैं जो संगठनों में समावेशन को बढ़ावा दें और सामाजिक कल्याण को प्रोत्साहित करें। अपनी ‘कनेक्टिंग फाॅर गुड’ की रणनीति के तहत हमने कई तकनीक उन्मुख समाधान विकसित किए हैं, जिन्होंने लाखों लोगों को लाभान्वित कर समाज पर सकारात्मक प्रभाव पैदा किया है। इस अत्याधुनिक डिजिटल प्लेटफाॅर्म वीएसओ-वाईब के लाॅन्च के साथ हम व्यक्तिगत एवं कोरपोरेट स्तर पर वाॅल्यूटियरिंग (स्वयंसेवा) को बढ़ावा देना चाहते हैं, साथ ही एनजीओ को भी इस सिस्टम के साथ जोड़ना चाहते हैं। हमें खुशी है कि हम नैसकाॅम और वीएसओ के साथ साझेदारी में ऐसा समाधान लेकर आए हैं जो वाॅल्यून्टीयर मोबिलाइज़ेशन, एंगेजमेन्ट एवं मैनेजमेन्ट को प्रोत्साहित करेगा।’’

वीएसओ-वाईब इस्तेमाल में आसान, व्यापक मोबाइल आधारित समाधान है जो वाॅल्यूटियरिंग (स्वयंसेवा) में बिताए जाने वाले समय को रिकाॅर्ड करता है तथा सामाजिक मुद्दों के समाधान के लिए व्यक्तिगत एवं सामुहिक प्रयासों के प्रभाव का मूल्यांकन करता है। यह व्यक्तिगत स्वयंसेवियों को ऐसा इंटरैक्टिव प्लेटफाॅर्म उपलब्ध कराता है, जिसके ज़रिए वे अपने काम, विचारों और अनुभवों को साझा कर सकते हैं। इसे टेक्नोलाॅजी पेशेवरों की टीम द्वारा कोरपोरेट, विकास एवं अकादमिक क्षेत्र के विशेषज्ञों की मदद से तैयार किया गया है।

इस मौके पर अशोक पामिदी, सीईओ, नैसकाॅम फाउन्डेशन ने कहा, ‘‘3.97 मिलियन सहयोगियों के साथ आईटी-बीपीएम उद्योग में भारत का सबसे बड़ा संभावी स्वयंसेवी आधार है। यह मंच स्वयंसेविधयों को ऐसा प्लेटफाॅर्म देता है जहां उन्हें समाज की ज़रूरत के अनुसार उचित योगदान देने का अवसर मिलता है ाअैर कंपनियां स्वयंसेवा के इन घंटों एवं इसके प्रभाव का मूल्यांकन कर सकती हैं। वीएसओ-वाईब इसी दिशा मेां एक प्रयास है जिसमें कंपनियों के अंदर और कंपनियों के बीच बड़े पैमाने की स्वयंसेवी गतिविधियों को बढ़ावा देने की क्षमता है। ‘कनेक्टिंग फाॅर गुड’ पहल के तहत वोडाफोन आईडिया सीएसआर के साथ साझेदारी में विकसित यह प्लेटफाॅर्म कोरपोरेट वाॅल्यून्टीयरिंग के लिए वन-स्टाॅप शाॅप की भूमिका निभाता है और एनजीओ को स्वयंसेवियों के साथ जोड़ने के लिए प्रत्यक्ष इंटरफेस प्रदन करता है।’’

‘‘इसका खास फीचर है कि यह हर Volunteer के काम को एसडीजी, स्मार्ट डैशबोर्ड, रियल टाईम नोटिफिकेशन और डाॅक्यूमेंटेशन के साथ जोड़ता है। वीएसओ-वाईब भारत में वाॅल्यून्टीयरिंग का दायरा बढ़ाकर सीमांत समुदायों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाएगा।’’ सचल अनेजा, एशिया पेसिफिक कोरपोरेट एंगेजमेन्ट मैनेजर, वीएसओ ने कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »