विराट कोहली ने खुद छोड़ी वनडे की कप्‍तानी, या उन्‍हें हटाया गया?

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की पूर्व क्रिकेटर चेतन शर्मा की अध्यक्षता वाली सिलेक्शन कमिटी ने बुधवार को साउथ अफ्रीका के लिए टेस्ट टीम का ऐलान किया। साथ ही रोहित शर्मा को वनडे टीम का नया कप्तान नियुक्त किया। यह फैसला कोहली के टी-20 टीम की कप्तानी छोड़ने के 3 महीने के अंदर लिया गया है।

विराट कोहली को भारत की एकदिवसीय कप्तानी से स्वेच्छा से पद छोड़ने का विकल्प दिया गया था, लेकिन उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया। समाचार एजेंसी पीटीआई ने बुधवार को बताया कि इसने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को अपने कर्तव्यों से मुक्त करके मामले को अपने हाथों में लेने के लिए प्रेरित किया।

यह दावा बीसीसीआई द्वारा एक संक्षिप्त सोशल मीडिया पोस्ट में रोहित शर्मा को टीम इंडिया के नए वनडे कप्तान के रूप में घोषित करने के कुछ ही घंटों बाद आया है। पीटीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल की शुरुआत में संयुक्त अरब अमीरात और ओमान में टी20 विश्व कप से पहले टी20ई नेतृत्व से हटने का फैसला करने के बाद विराट कोहली हमेशा अपनी एकदिवसीय कप्तानी खोने वाले थे।

बोर्ड ने सिर्फ ऐलान किया, फैसला तो कोहली का था
घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने जोर देकर कहा कि सफेद गेंद (टी-20 और वनडे) के कप्तान के रूप में पद छोड़ने का निर्णय कोहली का है और बीसीसीआई ने केवल ऐलान किया। वर्तमान में बाबर आजम के बाद दुनिया के नंबर 2 एकदिवसीय बल्लेबाज कोहली ने लगभग 25 टेस्ट पारियों से शतक नहीं बनाया है और फिलहाल टॉप-5 की रैंकिंग से भी बाहर हैं।
विराट को कप्तानी से ब्रेक की जरूरत
सूत्रों ने कहा, ‘कप्तानी उनका काफी समय ले रही थी और इसलिए उन्हें इस ब्रेक की जरूरत थी। यह उन्हें बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति देगा, जो अभी उनके लिए सबसे महत्वपूर्ण है।’ इस बीच रोहित शर्मा के लिए समय आ गया है कि वह लिमिटेड ओवरों की क्रिकेट में कप्तान के रूप में टीम को लीड करें। वनडे और टी20 में दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक 34 वर्षीय रोहित लंबे समय से कप्तान-इन-वेटिंग रहे हैं।
इसलिए रोहित पर भरोसा
शर्मा ने टी-20 में मुंबई इंडियंस के लिए पांच इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) खिताब जीतकर अपनी योग्यता साबित की है, जबकि एक दिवसीय मैचों में कोहली के उपकप्तान के रूप में उनका प्रदर्शन शानदार रहा। वह हमेशा कप्तान बनने की दौड़ में सबसे आगे रहे। उन्होंने टेस्ट में भी अपने प्रदर्शन से सभी को आकर्षित किया। वह टॉप-5 बल्लेबाजों में शामिल हैं। इसलिए उन्हें टेस्ट टीम का उपकप्तानी भी नियुक्त किया गया है।
हर फॉर्मेट में रोहित ने खुद को साबित किया
सूत्रों ने आगे कहा- रोहित ने बार-बार खुद को साबित किया था। जब आप लगातार ऐसा करते हैं तो किसी न किसी तरह का इनाम होना तो होना ही चाहिए। जब तक उनका समय नहीं आया तब तक वे जैसे हैं वैसे ही बल्लेबाज बने रह सकते थे। लेकिन अब उनके पास नई भूमिका है। वह बहुत कुछ करने के लिए तैयार होंगे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *