यरुशलम में तनाव से इजरायल और गाजा पट्टी के बीच हिंसा भड़की

यरुशलम। यरुशलम में तनाव की वजह से इजरायल और गाजा पट्टी के बीच शनिवार को हिंसा भड़क गई। फिलिस्तीनी उग्रवादियों ने कम से कम 36 रॉकेट दागे जबकि इजरायल ने गाजा के हमास द्वारा शासित ठिकानों को निशाना बनाया है। यरुशलम में हाल के दिनों में झड़पों में बढ़ोत्तरी हुई है जो इजरायल-फिलिस्तीन में लंबे समय से टकराव का मुख्य केंद्र रहा है और यहीं पर यहूदियों, ईसाइयों और मुस्लिमों के पवित्र स्थल स्थित हैं।
यरुशलम में बढ़ाई गई सुरक्षा
यरुशलम के निवासियों को और अशांति की आशंका हैं जबकि पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी है और अमेरिकी दूतावास ने शांति की अपील की है। इजरायल की पुलिस ने शुक्रवार को बताया था कि यरुशलम में रात में हुई हिंसा के मामले में 44 लोगों को गिरफ्तार किया गया है तथा 20 अधिकारी जख्मी हुए हैं। रमजान में पाबंदियां लगाने से नाराज फिलिस्तीनियों और अरबी लोगों की यरुशलम में सुरक्षा बलों की झड़प हुई।
हमास बोला, हमारे सब्र का इम्तिहान न लो
यरुशलम में हुई घटनाओं ने गाजा को भड़का दिया। हमास की सशस्त्र इकाई ने इजरायल को चेताया कि वह उसके सब्र का इम्तिहान न ले और फिलिस्तीनी एनक्लेव से शुक्रवार देर रात दक्षिणी इजरायल पर रॉकेट दागना शुरू कर दिए और शनिवार सुबह तक यह सिलसिला जारी रहा।
इजरायली सेना ने गाजा पर की जोरदार बमबारी
इजरायल की सेना ने कहा कि उसके विमानों और टैंकों ने भी रॉकेट दागे हैं। हमास ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है लेकिन वामपंथी पॉपुलर फ्रंट फॉर लिबरेशन ऑफ फिलिस्तीन से संबद्ध छोटी सैन्य इकाई ने कहा है कि उसने कुछ मिसाइलें दागी हैं। कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए हमास द्वारा लगाए गए रात्रि कर्फ्यू को तोड़ते हुए भोर में सैड़कों लोग यरुशलम में अपने साथी फलस्तीनियों के समर्थन में सड़कों पर उतरे और टायर जलाए।
शुक्रवार को नहीं भड़की हिंसा
इस तरह का अंदेशा था कि यरुशलम में स्थित मस्जिद ए अक्सा में शुक्रवार दोपहर की नमाज़ के बाद हिंसा भड़क सकती है लेकिन मुस्लिम धार्मिक नेताओं की संयम की अपील के बाद लोग शांतिपूर्ण तरीके से लौट गए।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *