संजय बांगड़ की जगह Vikram Rathod बनाए गए नए बल्लेबाजी कोच

नई द‍िल्ली। पूर्व भारतीय ओपनर और चयनकर्ता Vikram Rathod को भारतीय टीम का बल्लेबाजी कोच बनाया गया। Vikram Rathod संजय बांगड़ का स्थान लेंगे। भारतीय टीम वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गई थी, जिसके बाद ये कयास लगाए जा रहे थे कि कोचिंग स्टाफ में बदलाव होगा। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इनमें सिर्फ बांगड़ को ही हटाया गया। गेंदबाजी कोच भरत अरुण और फील्डिंग कोच आर. श्रीधर अपने पद पर बने रह सकते हैं। मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद के नेतृत्व में कोचिंग स्टाफ का चयन किया गया।

एमएसके प्रसाद की अगुवाई वाली चयनसमिति ने सहयोगी स्टाफ के तीनों पदों के लिए तीन-तीन नामों की सिफारिश की थी। हितों के टकराव से जुड़ी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद प्रत्येक वर्ग में जिन कोच के नाम शीर्ष पर हैं, उन्हें नियुक्त किया जाएगा। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बोर्ड ने राठौड़ के नाम पर मुहर लगा दी है।

गौरतलब है क‍ि विश्व कप के सेमीफाइनल में मिली हार और टीम इंडिया के मिडिल ऑर्डर का लगातार फेल होने की गाज टीम इंडिया के बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ पर गिरी। अब बांगड़ की जगह टीम इंडिया के पूर्व चयनकर्ता रहे विक्रम राठौड़ को टीम इंडिया के बल्लेबाजी कोच की कमान मिली है।

1996 में क‍िया था डेब्यू
1996 में इंग्लिश सरजमीं पर भारतीय टीम के लिए डेब्यू करने वाले विक्रम राठौड़ का घरेलू क्रिकेट में रिकॉर्ड शानदार है। पंजाब के इस बल्लेबाज ने अपने खेल के दमपर टीम इंडिया में जगह भी बनाई, लेकिन उसे कभी इंटरनेशनल क्रिकेट में दिखा नहीं पाए।

टीम इंडिया के ओपनिंग बल्लेबाज रह चुके विक्रम राठौड़ ने भारत के लिए छह टेस्ट मैच और सात वनडे मैच खेले थे। शायद विक्रम को पता लग गया था कि वह शायद ही उस प्रतिष्ठा को जी सकते हैं, जो घरेलू क्रिकेट में उनके शानदार रन स्कोरिंग के कारण उन्हें मिली थी। अंतत: उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पकड़ नहीं बना पाने के कारण निराशा में करियर को समाप्त करना पड़ा।

साल 2012 में वे टीम इंडिया के चयनकर्ता भी रह चुके हैं। कुछ दिन पहले ही पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ ने इंडिया-ए के बैटिंग कोच के लिए उनके नाम का सुझाव दिया था। यानि इससे साबित होता है कि वो कितने काबिल हैं। इससे पहले भी विक्रम राठौड़ ने कोच पद में दिलचस्पी दिखाई थी। वह हाल के दिनों में इंडिया-ए और अंडर -19 टीमों का कोच बनना चाह रहे थे, लेकिन प्रशासकों की समिति (सीओए) ने हितों के टकराव के कारण उनके आवेदन को स्वीकार नहीं किया था।

बल्लेबाजी कोच के लिए विक्रम राठौड़ का सीधा मुकाबला अजिंक्य रहाणे के निजी बल्लेबाजी कोच प्रवीण आमरे से था। हालांकि मौजूदा बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ भी दोनों को कड़ी टक्कर थे रहे थे। पहले ऐसा माना जा रहा था कि पूर्व भारतीय बल्लेबाज प्रवीण आमरे इस पद के लिए सबसे उपयुक्त उम्मीदवार हैं। आमरे पहले भी दिल्ली कैपिटल्स की टीम से जुड़े रहे हैं और मौजूदा समय में अजिंक्य रहाणे के निजी कोच भी हैं।
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »