विजय माल्या को यूके HC से एक और झटका, Diageo के 945 करोड़ चुकाने होंगे

लंदन। शराब कारोबारी विजय माल्या को एक और तगड़ा झटका लगा है। यूके हाई कोर्ट ने आदेश दिया है कि माल्या को Diageo कंपनी को 13.5 करोड़ डॉलर यानी करीब 945 करोड़ रुपये चुकाने होंगे। डिआजियो ने 63 साल के कारोबारी माल्या पर 17.5 करोड़ डॉलर का दावा किया था। माल्या के वकील ने कोर्ट में कहा कि कंपनी से डील करते वक्त Diageo ने मौखिक रूप से कहा गया था कि वह इतनी जल्दी कोई दावा नहीं करेगी। कोर्ट ने माल्या की बात को खारिज करते हुए कहा कि ब्याज सहित Diageo के पैसे लौटाने होंगे। Diageo यूके की एक पेय कंपनी है।
Diageo के प्रवक्ता डॉमिनिक रेडफर्न ने कहा, ‘हमें खुशी है कि हमारी जीत हुई।’ दरअसल मामला माल्या की दो कंपनियों के अधिग्रहण का है। डिआजियो ने विजय माल्या की कंपनियों की हिस्सेदारी खरीदने के लिए पैसे चुकाए थे लेकिन उन्हें शेयर में हिस्सेदारी तक नहीं मिली। इससे उन्हें काफी नुकसान भी हुआ। कंपनी ने विजय माल्या को सीधे चार करोड़ डॉलर का भी भुगतान किया था। इसके संबंध में भी अभी केस चल रहा है। विजय माल्या की ये दोनों कंपनियां उनके बेटे सिद्धार्थ चलाते हैं। तीन साल पहले उनके और डिआजियो के बीच डील हुई थी।
रेडफर्न ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि विजय माल्या 17.5 करोड़ डॉलर का भुगतान करें। यह पैसा विजय माल्या की कंपनियों ने ठगा है। हम इस बात के लिए प्रतिबद्ध हैं कि चुकाई गई पूरी धनराशि ब्याज के साथ वापस ली जाएगी।’ माल्या की इन दोनों कंपनियों का नाम यूएसएल और सीएएसएल है। इस मामले में तीन कंपनियां पीएलसी, डिआजियो होल्डिंग्स नीदललैंड्स और डिआजियो फाइनैंस पीएलसी दावेदार हैं। माल्या की वॉटसन और सीएएसएल ने इससे पहले आईसीआईसीआई बैंक से कर्ज लिया था। इसके बाद ही डिआजियो ने चार्टर्ड बैंक से रीफाइनैंस करवाने के लिए माल्या की कंपनी से हाथ मिलाया था। सुनवाई के दौरान माल्या कोर्ट में मौजूद नहीं थे।
बता दें कि दो जुलाई को माल्या के प्रत्यर्पण मामले में यूके हाई कोर्ट में सुनावाई होनी है। वह अभी जमानत पर हैं। वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने माल्या के प्रत्यर्पण की अनुमति दे दी थी लेकिन माल्या ने इस फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट में अपील की थी। माल्या पर भारतीय बैंकों का लगभग 9000 करोड़ रुपये बकाया हैं। मुबई की विशेष अदालत ने माल्या को भगोड़ा घोषित कर दिया है। एजेंसियां लंबे समय से माल्या के प्रत्यर्पण के प्रयास कर रही हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »