VI पर 2,000 करोड़ और Airtel पर 1,050 करोड़ का जुर्माना

दूरसंचार विभाग DoT ने पांच साल पहले सेक्टर नियामक TRAI की सिफारिश के आधार पर Vodafone Idea पर 2,000 करोड़ रुपये और Bharti Airtel पर 1,050 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। जानकारी के मुताबिक कंपनियों को दिए गए डिमांड नोटिस के अनुसार दूरसंचार विभाग (DoT) ने पेनल्टी भरने के लिए दूरसंचार ऑपरेटरों को तीन हफ्ते का समय दिया है।
Vodafone Idea और Airtel पर 3050 करोड़ रुपये का जुर्माना
VI को 2,000 करोड़ रुपये और Airtel को 1,050 करोड़ रुपये का भुगतान करना है। विशेष रूप से भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) ने 2016 में “21 सर्किलों में प्रत्येक के लिए पर्याप्त POIs नहीं देने” के लिए 1,050 रुपये के जुर्माने की सिफारिश की थी। VI का बड़ा जुर्माना Idea सेल्युलर के साथ 2018 के विलय से आता है, जिस पर 19 सर्किलों में नियम का उल्लंघन के लिए 950 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया था।
Airtel जाएगा कोर्ट
भारती Airtel के प्रवक्ता ने कहा, “हम 2016 की TRAI की सिफारिशों के आधार पर एक नए ऑपरेटर को पॉइंट ऑफ इंटरकनेक्ट के प्रावधानों से संबंधित मनमानी और अनुचित मांग से बहुत निराश हैं। ये आरोप बेबुनियाद और प्रेरित थे। “भारती Airtel अनुपालन के हाई स्टैंडर्ड को बनाए रखने में गर्व महसूस करती है और हमेशा देश के कानून का पालन करती है। हम मांग को चुनौती देंगे और हमारे पास उपलब्ध कानूनी ऑप्शन को आगे बढ़ाएंगे।”
TRAI की सिफारिश पर लगा जुर्माना
जानकारी के मुताबिक Vodafone Idea की ओर से तत्काल कोई टिप्पणी नहीं मिली। अक्टूबर 2016 में, भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) ने Reliance Jio को इंटरकनेक्टिविटी से इनकार करने के लिए Airtel, Vodafone Idea (अब विलय) पर कुल 3,050 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाने की सिफारिश की थी।
Reliance Jio की शिकायत पर आई TRAI की सिफारिश
नियामक ने उस समय अपने दूरसंचार लाइसेंस रद्द करने की सिफारिश करने से यह कहते हुए रोक दिया था कि इससे उपभोक्ता को काफी असुविधा हो सकती है। TRAI की सिफारिश Reliance Jio की शिकायत पर आई थी कि उसके नेटवर्क पर 75% से ज्यादा कॉल विफल हो रहे थे क्योंकि पॉइंट ऑफ इंटरफेस (PoIs) जारी नहीं कर रहे थे। दूरसंचार विभाग की शीर्ष निर्णय लेने वाली संस्था, डिजिटल संचार आयोग ने जुलाई 2019 में संचयी दंड को मंजूरी दी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *