राम मंदिर पर पीएम के रुख से VHP सहमत नहीं, प्रेस कॉन्फ्रेंस करके दिया बयान

नई दिल्‍ली। राम मंदिर मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अपने इंटरव्‍यू में फिलहाल अध्‍यादेश लाए जाने की संभावना से इंकार करने के बाद विश्व हिंदू परिषद VHP का बयान भी आ गया है।
VHP ने पीएम मोदी की बातों से इत्तेफाक न रखते हुए कहा कि सरकार को कोर्ट की कार्यवाही पूरी होने से पहले कानून लाकर मंदिर बनाना चाहिए।
बुधवार को VHP के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि कोर्ट का इंतजार काफी लंबा हो जाएगा और हिंदू अनंत काल तक ऐसे नहीं रह सकते।
इससे पहले पीएम मोदी ने इंटरव्यू में कहा था कि कानूनी प्रक्रिया पूरी होने से पहले राम मंदिर पर अध्यादेश नहीं लाया जाएगा। पीएम के बयान का जिक्र करते हुए आलोक ने कहा कि न्यायिक प्रकिया के पूरे होने से पहले कानून लाया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि VHP चाहती है इस सरकार के कार्यकाल में ही मंदिर पर फैसला हो और वह इसके लिए पीएम मोदी से संसद में कानून लाने का आग्रह करते रहेंगे।
संत करेंगे मार्गदर्शन
VHP की आगे की रणनीति पर बात करते हुए आलोक ने कहा कि अब कुंभ में राम मंदिर पर फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘प्रयागराज में लगने वाले कुंभ मेले में 31 जनवरी को धर्म संसद होगी, जिसमें मौजूद संत आगे क्या किया जाए, इस पर फैसला लेंगे।’
आलोक ने यह भी बताया कि संत जैसा मार्गदर्शन करेंगे वीएचपी वैसा कदम उठाने को प्रतिबद्ध है।
आलोक कुमार ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा की जा रही धीमी सुनवाई का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि राम मंदिर का मुद्दा बीते 69 सालों से फंसा हुआ है। सुप्रीम कोर्ट में अब तक जजों की बेंच भी नहीं बनी है जहां मामले की सुनवाई होनी है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »