वेदांती की धमकी: अगर अयोध्या की धरती पर मस्ज़िद बनी तो आत्मदाह कर लूंगा

अयोध्‍या। राम जन्म भूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. रामविलास वेदांती ने धमकी दी है कि अगर अयोध्या की धरती पर मस्जिद बनी तो वह आत्मदाह कर लेंगे।
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले का मध्यस्थता के जरिए हल करने के लिए शुक्रवार को मध्यस्थता पैनल का ऐलान किया है। कोर्ट राजनीतिक रूप से संवेदनशील इस मामले को कोर्ट से बाहर ही सुलझाने की कोशश करना चाहता है। वहीं, इस फैसले के बाद श्री राम जन्म भूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉक्टर रामविलास दास वेदांती ने तीखा रुख अपनाते हुए धमकी दी है कि अगर अयोध्या की धरती पर मस्जिद बनी तो वह आत्मदाह कर लेंगे।
उल्‍लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस एफ. एम. कलीफुल्ला की अध्यक्षता में मध्यस्थता पैनल का ऐलान किया है, जिसमें आध्यात्मिक गुरु श्री-श्री रविशंकर और वरिष्ठ वकील श्रीराम पांचू शामिल हैं। कोर्ट के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए वेदांती ने चेतावनी दे डाली है कि अगर अयोध्या की धरती पर मस्जिद बनेगी तो वह आत्मदाह कर लेंगे। बता दें कि वेदांती बीजेपी से मछलीशहर लोकसभा सीट से सांसद भी रह चुके हैं।
राम जन्मभूमि और राम मंदिर निर्माण को लेकर वह पहले भी विवादित बयान दे चुके हैं। पिछले साल उन्होंने कहा था कि जिस तरह विवादित ढांचा ध्वस्त किया गया था, उसी तरह एक दिन में राम मंदिर भी बना लिया जाएगा। वेदांती ने दावा किया था कि 2019 के पहले कभी भी अयोध्या में राम मंदिर बनना शुरू हो सकता है। इस दौरान उन्होंने दो टूक कहा था कि कोर्ट का आदेश अगर नहीं भी आया तब भी मंदिर का निर्माण होगा।

8 हफ्ते में पूरी हो जाएगी प्रक्रिया
गौरतलब है कि मध्यस्थता के जरिए मामले को सुलझाने की प्रक्रिया 4 हफ्ते में शुरू हो जाएगी और 8 हफ्ते में पूरी हो जाएगी। हालांकि माना जा रहा है कि इस संबंध में कार्यवाही एक हफ्ते में ही शुरू हो सकती है। इसके साथ ही कोर्ट ने फैजाबाद में ही मध्यस्थता को लेकर बातचीत करने के निर्देश दिए हैं। जब तक बातचीत का सिलसिला चलेगा, पूरी बातचीत गोपनीय रखी जाएगी। सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा है कि पैनल में शामिल लोग या संबंधित पक्ष कोई जानकारी नहीं देंगे। इसको लेकर मीडिया रिपोर्टिंग पर भी पाबंदी लगा दी गई है।

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »