उत्तराखंड: केदारनाथ धाम में भारी बर्फबारी, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत फंसे

केदारनाथ। भारी बारिश और बर्फबारी के चलते उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत केदारनाथ धाम में फंस गए हैं। इस खराब मौसम के कारण ना हेलिकॉप्टर उड़ान भर पा रहा है और ना ही वापसी का पैदल मार्ग सुरक्षित है। फिलहाल मौसम के साफ होने का इंतजार किया जा रहा है। हरीश रावत के साथ सांसद प्रदीप टम्टा भी फंसे हुए हैं।
गौरतलब है कि मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए प्रशासन ने केदारनाथ जाने वाले यात्रियों को सोनप्रयाग और गौरीकुंड में रोक दिया है। केदारनाथ में लगातार बारिश और बर्फबारी के चलते तीन इंच से अधिक बर्फ जम गई है। सोमवार को केदारनाथ में पूरे दिन ही मौसम का मिजाज बिगड़ा रहा। सुबह 10 बजे के बाद शुरू हुई बारिश और बर्फबारी करीब साढ़े पांच घंटे तक जारी रही। मौसम खराब होने बावजूद बाबा केदार के भक्तों के उत्साह में कमी नहीं आई।
कई श्रद्धालु भी फंसे
श्रद्धालु बरसाती ओढ़कर अपनी बारी का इंतजार करते रहे। वहीं खराब मौसम के चलते सोमवार को भी केदारनाथ के लिए संचालित हेलिकॉप्टर सेवा भी साढ़े पांच घंटे प्रभावित रही। 6:30 बजे से गुप्तकाशी, फाटा व शेरसी हेलिपैड से सात हेली कंपनियों के हेलिकॉप्टर धाम के लिए उड़ान भरने लग गए थे लेकिन 10 बजे से दोपहर बाद 3.30 बजे तक खराब मौसम के कारण यह सेवा बंद रही।
आपको बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री ने सोमवार को पैदल मार्ग से केदारनाथ धाम पहुंचकर बाबा केदारनाथ के दर्शन किए। दर्शन से पूर्व केदारनाथ धाम के पंडा समाज एवं व्यापारियों से पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा चर्चा की गई। केदारनाथ धाम के व्यापारी और पंडा समाज ने लेजर शो में केदारनाथ मंदिर को पर्दे के रूप में उपयोग करने और इस मौके पर मोदी सरकार का प्रचार करने पर सरकार की निंदा की। केदारनाथ धाम में गुजरात सरकार के पोस्टर लगे होने पर पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा भी आश्चर्य व्यक्त किया गया।
व्यापारियों में नाराजगी
केदारनाथ मंदिर को जाने वाले पैदल मार्ग को चौड़ा करके वहां से स्थानीय व्यापारियों की दुकानें हटाई गईं, उससे भी वहां के व्यापारियों में नाराजगी दिखी। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि बड़ी संख्या में पहुंच रहे तीर्थ यात्रियों के लिए शौचालय की व्यवस्था तक पर्याप्त नहीं है, जिस कारण केदारनाथ धाम में गंदगी का अंबार लगा हुआ है और ना ही घोड़े-खच्चर वालों के लिए कोई खास व्यवस्था की गई है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »