उत्तर प्रदेश चुनाव: मुख्य पार्टियों ने खर्च किए 5500 करोड़ रुपये, 1000 करोड़ बांटे वोटरों को

Uttar Pradesh assembly elections: the main parties spent Rs 5500 crore, 1000 crore distributed for voters
उत्तर प्रदेश चुनाव: मुख्य पार्टियों ने खर्च किए 5500 करोड़ रुपये

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के प्रचार में मुख्य पार्टियों द्वारा 5500 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। इसमें से करीब 1000 करोड़ रुपये वोटरों को वोट देने के लिए सीधे कैश दिया गया है। करीब एक तिहाई वोटरों का कहना है कि उन्हें अपने पक्ष में मतदान करने के लिए कैश या शराब का ऑफर किया गया है। इस बात का दावा सीएमएस प्री-पोस्ट पोल स्टडी ने अपने सर्वे में किया है।
चुनाव आयोग के अनुसार विधानसभा प्रत्याशी अपने चुनाव प्रचार में सिर्फ 25 लाख रुपये खर्च कर सकते हैं। हालांकि अधितकर प्रत्याशी चुनाव प्रचार में तय राशि से ज्यादा ही खर्च करते हैं और अक्सर चुनाव आयोग के समक्ष खर्च का ब्यौरा कम दिखलाते हैं। सीएमएस स्टडी की ताजा रिपोर्ट के अनुसार प्रिंट-इ्लेक्ट्रानिक विज्ञापन और वीडियो वैन में करीब 600 से 900 करोड़ रुपये के बीच खर्च किया गया है। सीएमएस स्टडी ने अपने सर्वे में पाया है कि यूपी में पड़े प्रत्येक वोट कीमत 750 रुपये रही है जो देश में सबसे ज्यादा है।
रिपोर्ट की मानें तो हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों में चुनाव आयोग की ओर से दिये गए आंकड़ों की तुलना में चार से पान गुना ज्यादा रुपया जब्त किया गया था। बता दें कि उत्तर प्रदेश 200 करोड़ रुपये जबकि पंजाब में 100 करोड़ रुपये से ज्यादा रुपये जब्त किये गए थे। सामने आए रुझानों को देखते हुए अंदाजा लगाया गया है कि 2017 में हुए चुनावों में मतदाताओं के बीच 1000 करोड़ रुपये बांटे गए।
सर्वेक्षण में यह भी कहा गया है कि उत्तर प्रदेश में लगभग 55 प्रतिशत मतदाताओं ने व्यक्तिगत रूप से किसी व्यक्ति या किसी पड़ोसी के बारे में जान लिया था, जिसने इस चुनाव में या पहले विधानसभा चुनावों में वोट देने के लिए पैसे लिये थे। अध्ययन में हैरान करने वाला ये तथ्य बताया गया है कि नोटबंदी की वजह से चुनावी खर्चे में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। रिपोर्ट में ऐसी भी बातें कही गई हैं कि कुछ ऐसे निर्वाचन क्षेत्र जहां बेहद करीबी मुकाबला रहा, वहां मतदाताओं को लुभाने के लिए 500 से 2,000 रुपये तक की राशि दी गई।
दो-तिहाई मतदाताओं ने पाया कि उम्मीदवारों ने पहले से कहीं ज्यादा खर्च किया था। यूपी विधानसभा चुनावों प्रचार के लिए अपनाए गए तरीकों में घर-घर जाकर कर प्रचार करना, रैलियां, यात्राएं, सोशल मीडिया, टेलीविजन, अखबारों और मल्टी स्क्रीन प्रोजेक्शन, मोटर साइकिल रैलियां, लंगर और सेलिब्रिटी शो के माध्यम से विज्ञापन किया गया।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *