उत्तर प्रदेश: रैंडम सैंपलिंग में 1.8 प्रतिशत लोग मिले कोरोना पॉजिटिव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के कोरोना प्रभावित इलाकों में रैंडम सैंपलिंग की। इसमें 1.8 प्रतिशत लोगों को पॉजिटिव पाया गया। यह सैंपलिंग प्रदेश के सभी 75 जिलों के संवेदनशील क्षेत्रों में की गई।
ICMR ने भी पिछले हफ्ते सर्वे का आंकड़ा जारी करते हुए कहा था कि यूपी के 9 जिलों में 0.7 प्रतिशत लोगों में कोरोना संक्रमण हो सकता है।
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया, ‘प्रदेश में की गई रैंडम सैंपलिंग में 3475 लोगों का टेस्ट किया गया, जिसमें से 65 लोगों को वायरस से संक्रमित पाया गया। यह कुल केसों का 1.87 प्रतिशत है।’ उन्होंने बताया कि ये संक्रमित भी 17 जिलों में ही हैं। 58 जिलों में एक भी केस नहीं मिला है।
इस टेस्ट सैंपलिंग का मकसद यह पता लगाना था कि क्या कोरोना संक्रमण का प्रसार कंटेनमेंट जोन से बाहर भी हो रहा है। संवेदनशील क्षेत्रों में झुग्गियां, ओल्ड एज होम, महिलाओं और बच्चों के घर शामिल रहे। अत्यधिक रिस्क वाले 16 जिलों से 1600 सैंपल लिए गए। मध्यम रिस्क वाले 40 जिलों से 2 हजार सैंपल लिए गए। कम रिस्क वाले 19 जिलों से 380 सैंपल लिए गए।
सचिव ने बताया, ‘यह सभी केस झुग्गी वाले इलाकों से पाए गए। सभी जिला प्रशासन को कंटेनमेंट ऐक्टिविटी बढ़ाए जाने का निर्देश दे दिया गया है।’ पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट डॉक्टर विश्वजीत कुमार ने बताया कि सरकार की तरफ से यह स्वागतयोग्य कदम है। उन्होंने यह भी कहा कि इन जिलों में RT-PCR टेस्टिंग से 1650 रैंडम सैंपल्स में से 65 केस पॉजिटिव आने का मतलब है 4 प्रतिशत लोगों का संक्रमित होना। यह खतरे की घंटी है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *