आयुर्वेदिक औषधि के रूप में किया जाता है नीम का प्रयोग, बहुत सारे गुण

नीम का प्रयोग आयुर्वेदिक औषधि के रूप में किया जाता है। नीम के बीज से निकाला हुआ तेल हमारे कई काम आ सकता है। नीम के तेल में बहुत सारे औषधीय गुण हैं। यह तेल सेहत और सौंदर्य दोनों के लिए फायदेमंद होता है। इसके अलावा यह कई बीमारियों में भी कारगर साबित हो सकता है।
आयुर्वेदाचार्य डॉ. सीएम पांडेय कहते हैं कि नीम आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर है। नीम के पेड़ की छाल, पत्तियां और फल सभी सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं।
​मोतियाबिंद की बीमारी
आंखों में मोतियाबिंद और रतौंधी हो जाने पर नीम के तेल को आंखों में काजल की तरह लगाएं। आंखों में सूजन हो जाने पर नीम के पत्ते को पीस कर अगर दाई आंख में है तो बाएं पैर के अंगूठे पर नीम की पत्ती को पीस कर लेप लगाएं। ऐसा अगर बाई आंख में हो तो दाएं अंगूठे पर लेप करें, आंखों की लाली व सूजन ठीक हो जाएगी।
मलेरिया से बचाव
नीम से मलेरिया के मच्छर और पैदा होने वाले लारवा को खत्म किया जा सकता है। मच्छरों पर यह बहुत असरदार होता है। नीम के तेल से मलेरिया पर काबू पाया जा सकता है। किसानों के लिए यह जैविक कीटनाशक का काम करता है। यह पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाता। यह जमीन या पानी की आपूर्ति में कोई हानिकारक पदार्थ नहीं मिलाता, यह बायोडीग्रेडेबल है। यह मधुमक्खियों और केंचुए के रूप में उपयोगी कीड़े को नुकसान नहीं पहुंचाता है।
​स्वस्थ त्वचा
रूखी-सूखी त्वचा के लिए नीम बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है। एक्जिमा से स्किन पर सूजन और खुजली होती है। इसके लिए इफेक्टिड एरिया में नीम का तेल लगाएं। जलने की वजह से शरीर में जख्म बन जाने पर नीम का तेल लगाने से जख्म जल्दी ठीक हो जाते हैं। इससे कील-मुंहासों और त्वचा के दाग भी दूर हो जाते हैं।
रुसी दूर करे
स्वस्थ और चमकदार बालों के लिए और बालों का सूखापन दूर करने के लिए नीम के तेल का प्रयोग करें। नीम का तेल नियमित रूप से लगाने से सिर की खुशकी दूर होगी, जिससे रूसी की समस्‍या ठीक हो जाएगी। इससे बाल दो मुंहे भी नहीं होते। गंजेपन की समस्या है तो सिर में नीम का तेल लगाएं। इससे जुएं-लीखें भी दूर हो जाती हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »