USCIRF करेगा भारत में धर्म या आस्था की स्वतंत्रता पर सुनवाई

वाशिंगटन। अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता के उल्लंघन के तथ्यों और परिस्थितियों की समीक्षा कर रहा अमेरिका का एक संघीय आयोग अगले सप्ताह भारत में धर्म या आस्था की स्वतंत्रता पर सुनवाई करेगा। अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग USCIRF के अध्यक्ष तेनजिन दोरजी ने बताया, ‘भारत में धर्म या आस्था की स्वतंत्रता: अमेरिकी नीति के लिए उभरती चुनौतियां और अवसर’ विषय पर 12 दिसंबर को सुनवाई होगी।
इनमें धार्मिक स्वतंत्रता की चुनौतियों को परखा जाएगा और भारत में धर्म या आस्था की आजादी के संरक्षण को प्रोत्साहित करने के लिए अमेरिकी सांसदों के लिए अवसर तलाशे जाएंगे।
USCIRF 1998 में निर्मित एक स्वतंत्र, द्विदलीय अमेरिकी संघीय सरकारी आयोग है। यह आयोग विदेशों में धार्मिक आजादी के उल्लंघन की समीक्षा करता है और अमेरिका के राष्ट्रपति, विदेशमंत्री और कांग्रेस के लिए नीतियों की सिफारिश करता है।
भारत पहले एक बार USCIRF की रिपोर्ट खारिज कर चुका है और दोहरा चुका है कि उसका संविधान सभी नागरिकों को धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार समेत मौलिक अधिकारों का संवैधानिक अधिकार देता है। भारत ने कहा है कि USCIRF को भारतीय नागरिकों के संविधान सम्मत अधिकारों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *