NSG में भारत के प्रवेश के लिए US ने फिर जताया समर्थन, भारत को बड़ी ताकत बताया

नई दिल्ली। अमेरिका ने परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (NSG) में भारत के प्रवेश के लिए एक बार फिर से अपना समर्थन जताया है। भारत में अमेरिका के राजदूत केनेथ जस्टर ने गुरुवार को कहा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत एक बड़ी ताकत है। जस्टर ने कहा, ‘हम अपने सहयोगियों के साथ भारत को NSG में प्रवेश दिलाने के मुद्दे पर काम कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘हिंद-प्रशांत क्षेत्र और इसके इतर भी नई दिल्ली एक बड़ी ताकत है। यह इलाका अमेरिका और भारत के लोगों की सुरक्षा और समृध्दि के लिए बेहद अहम है। हम साथ मिलकर इस क्षेत्र में आगे बढ़ सकते हैं, जहां कानून का राज हो और लोकतांत्रिक सिद्धांत दिखाई पड़े।’ जस्टर ने साथ ही अफगानिस्तान में पाकिस्तान को सकारात्मक भूमिका की सीख भी दे डाली।
अमेरिकी राजदूत ने अपने पहली पॉलिसी स्पीच में कहा, ‘हम संप्रभुता और अखंडता की भावना को प्रमोट करना चाहते हैं। समुद्र में स्वतंत्र आवाजाही और व्यवसायिक स्वतंत्रता की गारंटी चाहते हैं। हम क्षेत्रीय और समुद्री विवाद का शांतिपूर्ण निपटारा भी चाहते हैं।’
जस्टर ने साथ ही साफ किया कि ‘अमेरिका फर्स्ट’ और ‘मेक इन इंडिया’ की आपस में तुलना नहीं हो सकती है। उन्होंने कहा कि बल्कि दोनों में एक-दूसरे का फायदा उठाने की क्षमता है। राजदूत ने अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की बातों को दोहराते हुए अफगानिस्तान में भारत की बड़ी भूमिका की बात कही। उन्होंने साथ ही पाकिस्तान पर निशाना भी साधा। जस्टर ने कहा कि जबतक पाकिस्तान अफगानिस्तान में सकारात्मक भूमिका नहीं निभाएगा वहां स्थिति में सुधार नहीं आएगा।
पाकिस्तान को अमेरिका द्वारा दी जाने वाली सैन्य सहायता रोकने के सवाल पर जस्टर ने कहा, ‘ऐसा इसलिए हुए क्योंकि हमें लगता था कि पाकिस्तान ने अपने यहां आतंकियों के सफाए के लिए प्रयास नहीं किया और यही आतंकी अफगानिस्तान में हमले कर रहे हैं।’ बता दें कि अमेरिका ने कुछ दिन पहले पाकिस्तान को दी जाने वाली सैन्य सहायता को स्थगित कर दिया था।
सीमा पर आतंक पर जस्टर ने कहा, ‘राष्ट्रपति ट्रंप और अन्य अमेरिकी नेताओं का इस बारे में नजरिया साफ है कि हम सीमा पार आतंकी घटनाओं और आतंकियों के पनाहगाह को बर्दाश्त नहीं करेंगे। इसी के तहत हमने पिछले महीने पहली बार अमेरिका-भारत काउंटर टेररेज़म डेज़िग्नेशन डायलॉग की शुरुआत की है।’
इमिग्रेशन मुद्दे पर जस्टर ने बेबाकी से अपनी राय रखते हुए कहा, ‘अमेरिका एक खुला देश है। हम अप्रवासियों वाले देश हैं। अप्रवासी लोगों ने अमेरिकी अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में मदद की है। आज हम जो कुछ भी हैं उन्हीं की वजह से हैं और यह बदलने वाला नहीं है।’
-एजेंसी