UP STF ने पकड़ा 1 लाख का इनामी अपराधी, 16 से ज्यादा वारदातें कबूलीं

लखनऊ। STF वेस्ट UP की टीम ने लखनऊ, बाराबंकी व फर्रुखाबाद में डकैतियां व हत्याएं करने वाले घुमंतू गिरोह के 1 लाख के इनामी किशन उर्फ कालिया उर्फ राकेश उर्फ राजू बावरिया को काकोरी से गिरफ्तार किया है। राजू ने पूछताछ में 16 से ज्यादा वारदातें कबूलीं हैं।
एसएसपी STF अभिषेक सिंह ने बताया कि राजू मूलरूप से हरियाणा के पलवल का रहने वाला है। इससे पहले वह राजस्थान के महेंद्रगढ़ में रहता था। उसके पास से लूट के जेवरात, तमंचा व वारदातों में इस्तेमाल बाइक बरामद हुई है। राजू को STF ने काकोरी के जलियामऊ स्थित नागेश्वर मंदिर के पास से गिरफ्तार किया है।
पूछताछ में राजू ने बताया कि उसके गैंग ने बाराबंकी से लूट और डकैती की वारदात शुरू की और फर्रुखाबाद तक अंजाम दीं। इस गैंग के चार सदस्यों को लखनऊ पुलिस ने 3 फरवरी 2018 को गिरफ्तार किया था जबकि सरगना विनोद को एसटीएफ ने 7 फरवरी को पकड़ा था। इस मामले में अभी भी 50-50 हजार के इनामी काला प्रधान और दीपक अभी फरार हैं। गिरफ्तारी में वेस्ट यूपी में तैनात STF के डिप्टी एसपी राज कुमार मिश्रा की टीम की अहम भूमिका रही।
राजू ने यूपी, उत्तराखंड, हरियाणा, राजस्थान के कई शहरों में वारदात करना कबूला है। उसने बताया कि दिसंबर 2017 से जनवरी 2018 के बीच गैंग ने बाराबंकी के सतरिख, कायमगंज, लखनऊ के चिनहट, मलिहाबाद, काकोरी व फर्रुखाबाद के मऊ दरवाजा में बुजुर्ग दंपती की हत्या कर लूटपाट की घटना कबूली है। लखनऊ के मलिहाबाद में प्रधानपुत्र की हत्या भी इसी गैंग ने अंजाम दी। लखनऊ में वारदात के लिए उसका बहनोई राजेश उर्फ पेटला, रामवीर, उसकी पत्नी, विनोद और उसकी पत्नी, छोटू उर्फ मनोज उर्फ राकेश, उसकी पत्नी और महेंद्र आकर रुके थे। ये लोग किराए पर रहते थे। कपड़े की फेरी लगाकर घरों की रेकी करते थे।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »