इस गणतंत्र दिवस पर यूपी पुलिस देने जा रही है 303 Rifle को व‍िदाई

नई दिल्ली। इस गणतंत्र दिवस पर जब हर हिंदुस्तानी ‘सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तां हमारा’ गा रहा होगा, ठीक उसी वक्त 26 जनवरी 2020 को उत्तर प्रदेश पुलिस महकमा ‘जांबाज’ 303 Rifle (थ्री नाट थ्री राइफल ) को देगा ससम्मान ‘आखिरी सलामी’।

थ्री नाट थ्री को यूपी पुलिस से स-सम्मान अंतिम सलामी देने संबंधी आदेश, उत्तर प्रदेश राज्य पुलिस मुख्यालय से गुरुवार यानि 16 जनवरी 2020 को ही जारी किया गया है। इस विदाई आदेश को राज्य पुलिस मुख्यालय के अपर पुलिस महानिदेशक (लॉजिस्टिक्स) विजय कुमार मौर्य द्वारा जारी किया गया है। आदेश उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) और पुलिस अधीक्षक (एसपी) के नाम संबोधित है। जारी आदेश में 28 नवंबर 2019 के उस आदेश का भी हवाला दिया गया है, जिसमें यूपी पुलिस महकमे में थ्री नाट थ्री को चलन से बाहर करके इंसास राइफलों के इस्तेमाल का जिक्र था।

इसी खास आदेश में सभी जिला पुलिस प्रमुख को कहा गया है कि, इस बार की गणतंत्र दिवस परेड की सलामी इन्हीं थ्री नाट थ्री राइफल से दी जाये। महकमे से बाहर हो रहीं थ्री नाट थ्री को इससे बड़ी और सम्मानित विदाई या अंतिम सलामी का इससे बेहतर कोई दूसरा रास्ता शायद जमाने में न मिल पाता।

वो थ्री नाट थ्री राइफल जिसने, गुलाम और आजाद हिंदुस्तान में। पुलिस का हर बुरे वक्त में साथ दिया। बिना कभी धोखा दिये हुए. जिसने कई दशक से जीत रखा था, खाकी वर्दी पहनने वाले हर जवान का दिल। जो बढ़ाती थी खाकी वर्दी पहने जवान की हिम्मत और करती थी। बिना बोले ही हर वदीर्धारी की हौसला-अफजाई।

पुलिस का जवान या अफसर जब ‘ट्रिगर’ दबाता था तभी गूंजती थी, जिस थ्री नाट थ्री राइफल की..बहरा कर देने वाली बुलंद आवाज. वो बुलंद आवाज जिसमें होता था, नीम-बेहोश को भी होश में लाकर खड़ा कर लेने का दम,उसी का तो नाम था ‘थ्री-नॉट-थ्री राइफल’। देश के अधिकांश खाकी वदीर्धारी जवानों को हर मोर्चे पर फतेह दिलाने वाली थ्री नाट थ्री राइफल।

वो राइफल जिसे, कंधे पर लटकाने वाले हर पुलिसिया जवान की बदल जाती थी किसी जमाने में आवाज और चाल। सिर्फ और सिर्फ एक अदद थ्री नाट थ्री राइफल के कंधे पर लटके होने के अहसास से। जिस जवान के हाथ में मौजूद होती थी, लोडिड थ्री नाट थ्री राइफल, उसे मोर्चे पर फिर शायद ही कभी सामने मुंह बाये खड़ी मौत से भी कभी डर लगा हो।

न मालूम इसी थ्री नाट थ्री राइफल के मुंह से निकली गोलियों ने कितने बहादुरों को मौत के मुंह में जाने से बचा लिया होगा। न मालूम पुलिस की इसी हरदिल पसंदीदा राइफल के मुंह से निकली बारुदी गोलियों ने, कितने दुर्दांत दुश्मनों को सुला दिया होगा। खुद को उनके सीने में दफना कर। हमेशा-हमेशा के लिए मौत की नींद।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *