यूपी: सीएम योगी आदित्यनाथ ने माया सरकार में हुए चीनी मिल घोटाले की जांच के आदेश दिए

UP: CM Yogi Adityanath ordered inquiry of sugar mill scam in Maya government
यूपी: सीएम योगी आदित्यनाथ ने माया सरकार में हुए चीनी मिल घोटाले की जांच के आदेश दिए

लखनऊ। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मायावती सरकार में चीनी मिल बेचने में हुए घोटाले की जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि जरूरत पड़ी तो 2010-11 में हुए 1100 करोड़ रुपये के इस घोटाले की सीबीआई जांच भी कराई जा सकती है। योगी ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को सरकारी संपत्तियां को औने-पौने दामों पर बेचने का कोई हक नहीं है। यह जनता की संपत्ति है। इसका दुरुपयोग नहीं होने दिया जाएगा।
माया सरकार में उत्तर प्रदेश शुगर कॉरपोरेशन और राज्य चीनी एवं गन्ना विकास निगम लिमिटेड की कुल 21 चीनी मिलों को औने-पौने दामों में बेच दिया गया था। सीएजी ने इस मामले की जांच की थी, जिसमें 1179 करोड़ का घाटा पाया गया था।
यह चीनी मिलें पोंटी चढ्ढा समूह के अलावा कुछ अन्य व्यवसायियों ने खरीद लिया था। सीएजी की रिपोर्ट के खुलासे के बावजूद इस मामले में पूर्व की अखिलेश सरकार ने कोई ऐक्शन नहीं लिया था।
इसके अलावा यूपी सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है कि वह गरीबों, मजदूरों, रिक्शा चालकों, कम सैलरी पाने वालों, नौकरीपेशा लोगों को 3 रुपये में नाश्ता और 5 रुपये में खाना खिलाएगी।
अन्नपूर्णा भोजनालय के नाम से शुरू होने वाली इस योजना का मसौदा तैयार हो चुका है। इसे राज्य के सभी 14 नगर निगमों में पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) में शुरू किया जाएगा।
इसके तहत गाजियाबाद में 20, लखनऊ में 28, कानपुर में 28 और गोरखपुर में 18 कैंटीन पायलट प्रॉजेक्ट के तौर पर खुलेंगी। कुल 275 कैंटीन खोलने पर 153.59 करोड़ रुपये की लागत आएगी। अगर कोई नाश्ता, लंच और डिनर इस कैंटीन से करेगा तो उसकी जेब से 13 रुपये खर्च होंगे, जबकि इसकी लागत 48 रुपये आएगी। इस तरह बाकी बचे 35 रुपये सरकार और कैंटीन चलाने वाला मिलकर चुकाएगा।
क्या होगा नाश्ते में
नमकीन दलिया और चाय; चना और चाय; दो कचौड़ी/खस्ता/समोसा, चटनी और चाय; दो इडली, सांभर और चाय; बंद मक्खन, दो ब्रेड पकौड़ा और चाय; पोहा और चाय में से कोई एक।
भोजन में क्या होगा
6 रोटी, मौसमी सब्जी या अरहर दाल-चावल के साथ प्याज/अचार और हरी मिर्च या वेज बिरियानी दोपहर और रात के खाने में।
मिलेगा टोकन
लाभार्थी को प्रीपेड टोकन या प्लास्टिक कार्ड जारी किए जाएंगे। प्लास्टिक कार्ड आधार से जुड़ा होगा। प्रीपेड टोकन 1 से 7 दिन तक वैलिड होगा। कार्ड रिचार्ज कराए जा सकेंगे। कार्ड या टोकन शहर के किसी भी अन्नपूर्णा कैंटीन में मान्य होंगे।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *