यूपी के CM का चेहरा चौंकाने वाला भी हो सकता है, आज है संघ की बैठक

UP-CM--bjp
यूपी के CM का चेहरा चौंकाने वाला भी हो सकता है, आज है संघ की बैठक

यूपी  के CM के लिए सबसे ज्यादा चौंकाने वाला नाम कानपुर की महाराजपुर सीट से चुने गए विधायक सतीश महाना का है। महाना को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का करीबी बताया जाता है

नई दिल्ली। कोयंबटूर में आज आरएसएस की बैठक है और इसमें यूपी के अगले सीएम पर चर्चा हो सकती है। बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत और वरिष्ठ पदाधिकारी हिस्सा ले रहे हैं। खबरों के मुताबिक यूपी से बीजेपी सीएम का चेहरा चौंकाने वाला भी हो सकता है। इसके आलावा सूत्रों के मुताबिक राज्य में बीजेपी 2 डेप्युटी सीएम के फॉर्म्युला पर भी चर्चा कर रही है।

यूपी में बीजेपी की शानदार जीत के बाद अब सबके जुबां पर राज्य का अगला सीएम कौन होगा इसी पर चर्चा चल रही है। सीएम की रेस में कई नाम सामने उभरकर आए हैं। इसमें केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, यूपी बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य, श्रीकांत शर्मा, गोरखपुर से सांसद योगी आदित्यनाथ और रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा के नाम हैं लेकिन इन सबमें सबसे ज्यादा चौंकाने वाला नाम कानपुर की महाराजपुर सीट से चुने गए विधायक सतीश महाना का है। महाना को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का करीबी बताया जाता है।

खबरों के मुताबिक महाना आरएसएस में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ काम कर चुके हैं और यह बात उनके पक्ष में जा रही है। बीजेपी संसदीय दल की बैठक के दौरान पीएम मोदी ने कहा था कि कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जो लाइम लाइट में नहीं रहते, लेकिन काम अच्छा करते हैं। पीएम के इस बयान को महाना की कार्यशैली से जोड़कर देखा जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक रविवार को महाना को अचानक दिल्ली बुलाया गया था।

कानपुर से छठी बार विधायक बने महाना को इस बार के चुनाव में 56 फीसदी मत मिले थे। महाना ने बीएसपी के मनोज कुमार शुक्ला को 91,826 हजार वोटों से हराया था। पूरे कानपुर में उनका नाम बड़े सम्मान के साथ लिया जाता है। वह छोटे दुकानदारों में काफी लोकप्रिय हैं। अगर लोकसभा चुनाव के दौरान कानपुर से मुरली मनोहर जोशी को टिकट नहीं मिलता तो उनका वहां से बतौर बीजेपी उम्मीदवार उतरना तय माना जा रहा था।

इस तरह के कयास पहले से ही थे कि अगर राज्य में बीजेपी की सरकार बनी तो महाना का मंत्री बनना तय है। लेकिन अब उनका नाम मुख्यमंत्री के दावेदारों के तौर पर उभरकर सामने आया है। पंजाबी होने का कारण महाना को वित्त मंत्री अरुण जेटली का करीबी भी बताया जाता है। बताया जाता है कि महाना और जोशी एक दूसरे को फूटी आंख भी नहीं सुहाते हैं। ऐसे में राज्य में सीएम के कई दावेदारों के बीच महाना का नाम भी मजबूती से हवा में तैर रहा है।

कौन हैं सतीश महाना

-14 अक्टूबर 1960 को जन्म, 1991 से लगातार छठी बार विधायक।
– इस बार महाना ने रेकॉर्ड 56 फीसदी वोट पाकर बीएसपी के मनोज शुक्ला को हराया।
-खबरों के मुताबिक महाना संघ के दिनों में नरेंद्र मोदी के साथ काम कर चुके हैं।
-कानपुर में महाना मशहूर, छोटे दुकानदारों में लोकप्रिय।
-सोशल मीडिया पर भी महाना काफी सक्रिय, चुनाव की हर गतिविधि अपडोल होती थी।
-2014 के लोकसभा चुनाव में महाना को नहीं मिल पाया था कानपुर से टिकट।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *