अनूठी पहल: हर रविवार बच्‍चों को पढ़ाएंगे डीएम शाहजहांपुर अमृत त्रिपाठी

शाहजहांपुर। यूपी में ऐसे कई गरीब छात्र हैं जो सिविल सर्विस की तैयारी करना चाहते हैं लेकिन पैसे की कमी के कारण उन्हें गाइडेंस नहीं मिल पाता है। ऐसे में शाहजहांपुर जिले के डीएम अमृत त्रिपाठी ने एक अनूठी पहल की है। उन्होंने फैसला लिया है कि अब वह हर रविवार को ऐसे गरीब छात्रों के लिए विशेष कक्षाएं लगाएंगे। उन्‍होंने 27 मई को अपनी पहली कक्षा लगाई।
छोटी सी जगह में थी संसाधनों की कमी
2008 बैच के आईएएस अधिकारी अमृत त्रिपाठी ने बताया कि वह खुद उत्तराखंड के छोटी सी जगह रानीखेत से हैं। वहां भी उन्हें सुविधाओं संसाधनों की कमी रहती थी। वहां से निकलकर जब वह दिल्‍ली स्थित जेएनयू पहुंचे, तब उनकी जिंदगी ने करवट बदली। उन्होंने कहा कि जब वह शाहजहांपुर आए तो उन्हें यह अहसास हुआ कि यह इलाका बहुत पिछड़ा है। जो छात्र आईएएस की तैयारी करना चाहते हैं उनके लिए कोई संसाधन नहीं है। अच्छे घरों के बच्चे तो बड़े शहरों में जाकर तैयारी कर लेते हैं लेकिन गरीब बच्चों में प्रतिभा होने के बावजूद उन्हें मौका नहीं मिल पा रहा।
ऐसे होगा चुनाव
अमृत त्रिपाठी ने बताया कि बच्चों को आईएएस की तैयारी करवाने के लिए उन्‍होंने एक प्लान तैयार किया है। इसमें गरीब और अमीर दोनों बच्चों को शामिल किया जाएगा। जो आवेदन आएंगे, उनकी स्क्रीनिंग करके 25-25 बच्चों का एक ग्रुप बनाया जाएगा। हर रविवार को एक ग्रुप के बच्चों को लेकर उनकी काउंसलिंग की जाएगी। काउंसलिंग के बाद उन्हें एक रिपोर्ट कार्ड दिया जाएगा। हर बैच से बेस्ट बच्चे को तैयारी करवाई जाएगी।
हर किसी को नेक काम में करेंगे शामिल
उन्होंने बताया कि बच्चों को गाइडेंस के साथ ही गरीब बच्चों को आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराई जाएगी। उनके बैच के कई दोस्त हैं जो ऊंचे पदों पर है, उन्होंने उनसे बात की है। ये लोग इस नेक काम में हेल्प करने के लिए राजी हो गए हैं। इसके साथ ही अच्छे घरों के जो बच्चे पढ़ना चाहेंगे, उनके माता-पिता से स्वेच्छानुसार लाइब्रेरी में सहयोग करने को कहा जाएगा।
ट्रेनी आईएएस को सौंपा जिम्मा
डीएम अमृत त्रिपाठी ने बताया कि 2017 बैच में चुने गए ट्रेनी आईएएस अक्षत वर्मा हाल ही में जिले में पहुंचे हैं। इस पहल की जिम्मेदारी उन्हें सौंपी गई है। अक्षत ने बताया कि वह यूपी के फैजाबाद जिले से हैं। उन्होंने आईआईटी रुड़की से बीटेक किया है। वह जिले में अभी एक साल तक हैं। उन्होंने हाल ही में आईएएस की परीक्षा पास की है इसलिए वह इस काम को और भी ज्यादा बेहतर तरीके से कर सकते हैं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »