कॉलेज परीक्षाओं को लेकर UGC की योजना बताई केंद्रीय मंत्री ने

नई दिल्‍ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने आज वेबिनार के जरिए देश के शिक्षा जगत को संबोधित किया।
NAAC द्वारा इस वेबिनार का आयोजन खास तौर पर देशभर के करीब 45 हजार डिग्री कॉलेजों के लिए किया गया था।
इस वेबिनार में केंद्रीय मंत्री ने जेईई, नीट से लेकर कॉलेज एग्जाम्स, ऑनलाइन लर्निंग और शोध कार्यों तक पर चर्चा की। उन्होंने ये भी बताया कि कोरोना के कारण बिगड़े हालात में कॉलेजों की परीक्षाओं को लेकर UGC की क्या योजना है।
डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि कोविड-19 से जहां पूरी दुनिया थर्रा रही है, वहीं भारत जैसा विकासशील देश शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर काम कर रहा है। ये हमारे शिक्षा के योद्धाओं यानी शिक्षकों के कारण ही संभव है।
ऑनलाइन शिक्षा
हमने चुनौति को अवसर के रूप में लिया है। किसी ने नहीं सोचा था कि ऐसी परिस्थिति आएगी जब बच्चा घर पर रहेगा और फिर उसकी पढ़ाई लिखाई का क्या होगा। ऐसे में हमने ऑनलाइन शिक्षा पर पूरा जोर दिया और इसे कई गुना बेहतर कर आगे बढ़ाया है। ई-पाठशाला, दीक्षा पोर्टल जैसे कई ई-विद्या प्लेटफॉर्म्स शुरू किए गए हैं।
स्वयम् तो दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म बन गया है लेकिन जिन छात्रों के पास मोबाइल, लैपटॉप, इंटरनेट की सुविधा नहीं है। उनके लिए हमने टीवी पर स्वम्प्रभा चैनल शुरू किया है जहां 24 घंटे अलग-अलग विषयों की पढ़ाई कराई जा रही है। इसके अलावा रेडियो (AIR) पर भी शैक्षणिक कार्यक्रमों का प्रसारण किया जा रहा है। सामान्य हालात की अपेक्षा इस समय ज्यादा मेहनत हो रही है।
UGC तय करेगी कि देश के किन 100 विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा दिया जाएगा।
मनोदर्पण
बच्चों का मनोबल बनाए रखने के लिए हम मनोदर्पण लेकर आ रहे हैं। जल्द ही इसका उद्घाटन किया जाएगा। हर यूनिवर्सिटी में इसके लिए भी एक हेल्पलाइन बनेगी। इसकी मदद से छात्रों के मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाएगा।
कॉलेजों में रिक्त पद
केंद्र और राज्यों में कई पद रिक्त थे। उसे भरने की कोशिश में हम लगे हैं। हजारों भर्तियां हुई भी हैं। 12 हजार से भी ज्यादा केंद्र में और राज्यों से 30 हजार के करीब रिक्त पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी हुए हैं। जल्दी ही भर्ती प्रक्रिया पूरी की जाएगी।
कॉलेजों में परीक्षाएं
एनसीईआरटी की तरह ही UGC में भी टास्क फोर्स का गठन किया गया है जो आगे के लिए रोडमैप तैयार करेगा। जुलाई में परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी अगर हालात सामान्य हुए। किस तरह होंगी, इस पर टास्क फोर्स अध्ययन कर रिपोर्ट दे रही हैं।
छात्रों की सुरक्षा पहले है। जिन क्षेत्रों में उस समय तक भी सामान्य स्थिति नहीं होगी, वहां आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर ही छात्रों की पदोन्नति होगी। फाइनल परीक्षा होगी। कब होगी, इसका निर्णय हालात के अनुसार लिया जाएगा।
नीट और जेईई मेन
नीट और जेईई मेन व एडवांस्ड की तिथियां घोषित हो चुकी हैं। तैयारी के लिए छात्र बाहर नहीं जा रहे। ऐसे में तैयारी में मदद के लिए एनटीए ने नेशनल टेस्ट अभ्यास ऐप लॉन्च किया है। जिसे प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। चार दिन में ही 4.60 लाख स्टूडेंट्स इस ऐप को डाउनलोड कर चुके हैं और मॉक टेस्ट भी दे चुके हैं।
अन्य बातें
स्टडी इन इंडिया के तहत 40 हजार से ज्यादा नामांकन हो चुके हैं। हम इस दिशा में काम कर रहे हैं कि दूसरे देशों से बच्चे हमारे यहां पढ़ने के लिए आएं और हमारे स्टूडेंट्स बाहर पढ़ाने के लिए जाएं।
शोध कर रहे छात्र नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी का लाभ उठा सकते हैं। इस पर 4.5 करोड़ से ज्यादा कंटेंट उपलब्ध है। STRIDE भी शोध में आपकी मदद करेगा।
युक्ति पोर्टल बनाया है। आप जहां भी अनुसंधान के क्षेत्र में जो भी काम कर रहे हैं उसे युक्ति पोर्टल पर डाल सकते हैं। ताकि आपका काम करोड़ों लोगों तक पहुंचे और उनके काम आए।
सभी संस्था नैक पर जरूर रजिस्टर कराएं। अपना मूल्यांकन करेंगे तभी अपनी कमियां दूर कर सकेंगे और ताकत बढ़ा सकेंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *