कोरोना के खौफ से अंडरवर्ल्‍ड माफिया और आतंकी भी बने समाज सेवक

वॉशिंगटन। पूरी दुनिया में सरकारें कोरोना वायरस महामारी से लड़ने की कवायद में जुटी हैं। कई देशों में सशस्त्र बागी, आतंकी समूह, ड्रग माफिया और समानांतर सरकार चलाने वाले अंडरवर्ल्ड में भी इस वायरस का खौफ कम नहीं है। कोरोना महामारी पर काबू पाने के लिए एक ओर जहां अफगानिस्तान में तालिबान ने सुदूर प्रांत में स्वास्थ्यकर्मियों की टीम भेजी है वहीं दूसरी ओर मेक्सिको में ड्रग माफिया गरीबों और जरूरतमंदों को राहत पैकेज दे रहा है।
ब्राजील और अल-सल्वाडोर में संक्रमण रोकने के लिए अंडरवर्ल्ड ने कर्फ्यू को सख्ती से लगाया है। यह पहली बार नहीं है कि लोगों की मदद के लिए इस तरह के समूह ने सरकार की जगह ली है। कुछ संगठनों ने सरकार की विफलता को भुनाने के लिए, तो कुछ ने वर्चस्व बनाए रखने के लिए ऐसा किया है। सोमालिया में अल-कायदा से जुड़े अल-शबाब का कहना है कि यह महामारी देश पर हमला करने वालों ने फैलाई है।
वहीं, इस्लामिक स्टेट इस महामारी से खुश है और उसने अपने लोगों से कहा है कि दुश्मनों पर हमला के लिए तैयार रहे। यमन में हॉथी विद्रोहियों ने सऊदी अरब पर कोरोना वायरस से संक्रमित मास्क एयरड्रॉप यानी विमान से भेजने का आरोप लगाया है। पूर्वी अफगानिस्तान में अफगानी सरकार और तालिबान के बीच करीब दो दशकों से संघर्ष जारी है।
तालिबान ने स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराईं
यहां तालिबान ने लोगों के लिए स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई हैं। वारदाक प्रांत के एक प्रांतीय परिषद के सदस्य का कहना है कि यहां सरकार केवल उन्हीं लोगों को क्वारंटीन में भेज रही है, जिनमें कोरोना वायरस के लक्षण दिख रहे हैं लेकिन तालिबान ने ईरान से हाल में आने वाले सभी लोगों को क्वारंटीन में भेजा है। उन्होंने कहा कि तालिबान इन इलाकों में गाड़ियों को रोककर लोगों को जागरूक कर रहा है कि वायरस के संक्रमण को कैसे रोका जा सकता है।
यहां तक कि अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने भी तालिबान के इस कदम की तारीफ की है। इसी तरह ब्राजील में कुछ माफिया संगठनों ने लोगों को चेतावनी दी है कि लोग अपने घरों में रहें, यह उनकी भलाई के लिए ही है। इस तरह से संदेश वॉट्सऐप के जरिए लोगों तक भेजे जा रहे हैं। वहीं, अल सल्वाडोर में सरकार ने सबसे सख्त लॉकडाउन लागू किया। वहीं, यहां के एमएस-13 संगठन ने कहा कि वह अपना अलग कर्फ्यू लागू करेगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *