भारत की चेतावनी के बाद UK सरकार ने कोविशील्ड को दी सशर्त मान्यता

नई दिल्‍ली। भारत की सख्त चेतावनी के बाद UK सरकार ने आंशिक रूप से अपनी गलती तो सुधार ली है पर एक नया पैंतरा चल दिया है। भारत ने यूके को ‘जैसे को तैसा’ की धमकी दे डाली थी। अब ट्रेवल एडवाइजरी में संशोधन करते हुए UK ने कोविशील्ड वैक्सीन को मान्यता तो दे दी है, पर इसमें अब भी एक पेंच फंसा दिया है। यूके ने कोविशील्ड को स्वीकृत वैक्सीन के रूप में शामिल कर लिया है पर दो डोज लगवाने वाले भारतीयों को अब भी क्वारंटीन रहना होगा क्योंकि भारत अब भी एंबर लिस्ट में है।
यूके को किस बात का संदेह
यूके उच्चायोग का एक बयान सामने आया है कि वहां की सरकार भारत के साथ वैक्सीन सर्टिफिकेशन को मान्यता देने पर काम कर रही है। इसमें कहा गया है कि कोविशील्ड की दोनों डोज लगवा चुके भारतीयों को अब भी क्वारंटीन में रखने की जरूरत होगी क्योंकि भारत में वैक्सीन सर्टिफिकेशन को लेकर उसे संदेह है। यूके सरकार ने साफ किया है कि उसे कोविशील्ड के साथ कोई दिक्कत नहीं है।
यूके सरकार ने संशोधित गाइडलाइंस में AstraZeneca Covishield, AstraZeneca Vaxzevria and Modern Takeda को मंजूरी दी गई है। यूके में ये नए कोविड नियम 4 अक्टूबर सुबह 4 बजे से लागू होंगे। यूके पहुंचने से कम से कम 14 दिन पहले ही व्यक्ति का पूर्ण टीकाकरण होना आवश्यक है। इसमें मिक्स वैक्सीन भी शामिल है।
एंबर, रेड और ग्रीन लिस्ट भी समझिए
-यूके ने अलग-अलग देशों के हिसाब से रेड, एंबर और ग्रीन लिस्ट बनाई है। अगर कोई शख्स यूके पहुंचने से पहले 10 दिन रेड लिस्ट वाले देश में रहा है तो उसे होटल में 10 दिन के लिए क्वारंटीन रहना होगा और 2 या 8 दिन के बाद कोविड-19 टेस्ट कराना होगा। पूर्ण रूप से टीकाकरण करा चुके लोगों को भी ये नियम मानने होंगे। इसके उल्लघंन पर 10 हजार पाउंड तक का जुर्माना है। भारत एंबर लिस्ट में है और ऐसे में बीते 10 दिन भारत में रहे लोगों को इंग्लैंड की यात्रा करने से तीन दिन पहले कोविड-19 टेस्ट कराना होगा। अगर कोई यात्री रवाना होने से पहले निगेटिव कोविड टेस्ट का प्रूफ लेकर नहीं पहुंचता है तो उस पर 500 पाउंड का जुर्माना लगेगा। पहुंचने के बाद यात्री को दूसरे दिन कोविड-19 टेस्ट कराना होगा। पहले टेस्ट कराना पूरी तरह से वैक्सीनेट यात्रियों के लिए भी जरूरी है लेकिन अगर उन्होंने स्वीकृत वैक्सीन की पूरी खुराक ली है तो उन्हें क्वारंटीन से छूट मिलेगी। अब तक यूके ने फाइजर, मॉडर्ना या ऐस्ट्राजेनेका वैक्सीन और एक डोज वाली जॉनसन एंड जॉनसन को ही मान्यता दी थी।
-अगर यात्री एंबर लिस्ट से है और स्वीकृत वैक्सीन से पूरी तरह से वैक्सीनेट नहीं हुआ तो पहुंचने पर उसे घर या किसी अन्य जगह पर क्वारंटीन रहना होगा। दूसरे या आठवें दिन कोविड-19 टेस्ट करना होगा।
-ग्रीन लिस्ट वाले देशों से आने वाले लोगों को भी इंग्लैंड की यात्रा से तीन दिन पहले कोविड-19 टेस्ट से गुजरना होगा। इसके अलावा इंग्लैंड पहुंचने के दूसरे दिन टेस्ट बुक करना होगा। हां, ग्रीन लिस्ट वाले देशों के लोगों के लिए क्वारंटीन से बिल्कुल छूट है।
24 घंटे पहले ही भारत ने जताया था ऐतराज
भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कोविशील्ड को मान्यता ने देने पर सख्त ऐतराज जताया था। उन्होंने दो टूक कहा था कि कोविशील्ड को मान्यता न देना भेदभावपूर्ण नीति है और इस कारण यूके की यात्रा करने वाले हमारे नागरिकों को ये नीति प्रभावित करती है। विदेश मंत्री ने ब्रिटेन के नए विदेश सचिव के समक्ष इस मुद्दे को मजबूती से उठाया और अब यूके अपनी पॉलिसी को बदलने पर मजबूर हुआ है।
इससे पहले यूके ने कहा था कि वह कोविशील्‍ड की दोनों डोज लगवा चुके भारतीयों को ‘वैक्‍सीनेटेड’ नहीं मानेगी। वहां की यात्रा करने वाले भारतीय 10 दिन क्‍वारंटीन रहेंगे। UK के इस नए कोविड-19 यात्रा प्रतिबंधों से भारत खफा था। यूके ने अमेरिका, यूरोप समेत दुनिया के कई देशों के वैक्‍सीनेटेड लोगों को यात्रा की अनुमति दी थी पर भारतीयों को नहीं। अब यूके ने गलती सुधार ली है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *