ब्रिटेन चुनाव: भारतीय मूल के कई उम्मीदवारों ने भी जीत हासिल की

लंदन। ब्रिटेन के आम चुनाव में कंजर्वेटिव पार्टी ने शानदार जीत हासिल करते हुए बहुमत हासिल कर लिया है। दूसरी तरफ भारतीय मूल के कई उम्मीदवारों ने भी जीत हासिल की है।
कंजर्वेटिव और लेबर पार्टी दोनों से करीब एक दर्जन भारतीय मूल के सांसदों ने अपनी सीट बरकरार रखी है, जबकि कुछ नए चेहरों ने भी जीत हासिल की है।
पिछली संसद के सदस्य रहे सभी भारतीय मूल के उम्मीदवारों ने इस बार भी अपनी-अपनी सीटों पर जीत हासिल की है। पहली बार जीत हासिल करने वाले भारतीय मूल के उम्मीदवारों में कंजर्वेटिव पार्टी के गगन मोहिंद्रा और क्लेयर कोर्टिन्हो और लेबर पार्टी से नवेंद्रु मिश्रा शामिल हैं।
गोवा मूल की कोर्टिन्हो ने जीत के बाद कहा कि यह वक्त ब्रेग्जिट को अंजाम तक पहुंचाने का है। उन्होंने सरे ईस्ट सीट से जीत हासिल की है। मोहिंद्रा ने भी हर्टफोर्डशर साउथ वेस्ट सीट से जीच हासिल की है। इनके अलावा पूर्व गृह मंत्री प्रीति पटेल ने भी विटहेम से आसान जीत हासिल की है। इस बार भी वह जॉनसन की टॉप टीम का हिस्सा रहेंगी।
इन्फोसिस के सह-संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद ऋषि सुनक ने भी जीत हासिल की है। इसके अलावा पूर्व मंत्री आलोक शर्मा ने भी रीडिंग वेस्ट सीट से जीत हासिल की है। नॉर्थ वेस्ट कैंब्रिजशर सीट से शैलेश वारा ने भी जीत हासिल किया है। गोवा मूल की सुएला ब्रेवरमैन ने फेयरहम सीट से जीत हासिल की है।
विपक्षी लेबर पार्टी को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा है लेकिन उसके भारतीय मूल के सभी सांसदों ने इस बार भी जीत हासिल किया है। पिछली बार जीत हासिल कर ब्रिटेन की पहली महिला सिख सांसद बनने का गौरव हासिल करने वाली प्रीत कौर गिल ने इस बार भी जीत हासिल की है। इसके अलावा ब्रिटेन के पहले पगड़ीधारी सिख सांसद तनमनजीत सिंह धेसी भी एजबेस्टन से दोबारा चुने गए हैं। उन्होंने कंजर्वेटिव पार्टी के कंवर तूर गिल को शिकस्त दी है।
लेबर पार्टी से नवेंद्रु मिश्रा ने स्टॉकपोर्ट सीट से जीत हासिल की है और वह पहली बार संसद में पहुंचे हैं। इसके अलावा वीरेंद्र शर्मा, लीसा नैंडी, सीमा मल्होत्रा, कीथ वाज की बहन वलेरी वाज ने भी जीत हासिल की है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *