गाय को बॉल लगने पर आपस में भिड़ीं दो महिला उच्‍चाधिकारी

गांधीनगर। गुजरात के महिसागर में दो शीर्ष महिला अधिकारी आपस में भिड़ गईं। जिला विकास अधिकारी (आईएएस) नेहा कुमारी और पुलिस अधीक्षक ऊषा राडा के बीच विवाद की वजह कोई प्रशासनिक मुद्दा नहीं बल्कि एक गाय थी।
दोनों ही अधिकारियों ने सरकार में अपने शीर्ष अधिकारियों को लिखित में शिकायत दी और अंतत: विवाद को खत्‍म कराने के लिए मुख्‍यमंत्री कार्यालय को हस्‍तक्षेप करना पड़ा।
मुख्‍यमंत्री कार्यालय ने राज्‍य में वरिष्‍ठतम आईएएस अधिकारी संगीत सिंह को मामले की जांच करने और दोनों अधिकारियों को आपसी विवाद को खत्‍म करने का निर्देश दिया।
बताया जा रहा है कि पिछले साल क्रिसमस तक आईएएस अधिकारी नेहा और आईपीएस अधिकारी ऊषा राडा के बीच बहुत अच्‍छे संबंध थे।
इसी दौरान नेहा कुमारी कार्यालय के सदस्‍य कलेक्‍टर के लिए बने आधिकारिक आवास परिसर में वॉलीबॉल खेल रहे थे। खेलने के दौरान वॉलीबॉल ऊषा राडा की गिर नस्‍ल की गायों को जा लगी।
सरकार के पास दर्ज कराई गई शिकायतों के मुताबिक गायों को वॉलीबॉल लगने से गुस्‍साई एसपी राडा ने पुलिसकर्मियों को निर्देश दिया कि वे वॉलीबॉल की नेट को काट दें।
यहीं नहीं, उन्‍होंने मध्‍य गुजरात विज कंपनी ल‍िमिटेड को वॉलीबॉल ग्राउंड की बिजली काटने का न‍िर्देश दिया। अपनी शिकायत में नेहा कुमारी ने कहा कि पुलिसकर्मी राडा के आदेश पर वॉलीबॉल की नेट काटकर अपने साथ ले गए।
झगड़ा गुजरात सरकार के लिए शर्मिंदगी का विषय बना
उधर, राडा ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि नेहा कुमारी अपने 25 लोगों के साथ 26 दिसंबर 2019 को उनके आधिकारिक आवास में घुस आईं और उनके साथ गर्मागर्म बहस की। एसपी ने कहा कि नेहा ने उन्‍हें धमकी दी थी कि ‘मैं तुमको देख लूंगी।’ राडा ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि नेहा कुमारी और उनके साथ आए लोगों ने गिर गायों पर पत्‍थर फेंके जबकि उन्‍हीं गायों का दूध वह नेहा कुमारी को प्रतिदिन भेजती हैं।
एसपी ने कहा कि नेहा कुमारी ने बिना पहले नोटिस दिए राजस्‍व अधिकारियों को भेजा और पुलिस हाउसिंग कॉप्‍लेक्‍स के निर्माण को रुकवा दिया।
यही नहीं, एसपी ऑफिस की मरम्‍मत कर रहे ठेकेदारों को भी धमकी दी। उधर, दो शीर्ष अधिकारियों के बीच हुआ झगड़ा सरकार के लिए शर्मिंदगी का विषय बन गया है। मुख्‍यमंत्री कार्यालय ने वरष्ठितम आईएएस अधिकारी संगीता सिंह को इस विवाद को सुलझाने का जिम्‍मा दिया है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *