केरल में दो पादरियों और एक डीकन ने ली बीजेपी की सदस्‍यता, सब हैरान

कोट्टायम। सभी को हैरान करते हुए केरल में जेकबाइट सीरियन चर्च के दो पादरियों और एक डीकन ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सदस्यता ले ली। माना जा रहा है कि इसी के साथ बीजेपी ईसाई समुदाय के गढ़ में अपने रास्ते बना सकती है। फादर गीवर्गीज किझाक्केडथ, फादर थॉमस कुलाथनकुल और डीकन ऐंड्र्यूज मंगलथ ने केरल बीजेपी अध्यक्ष पीएस श्रीधरन पिल्लई की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ले ली।
माना जा रहा है कि यह एक बड़ा कदम है, क्योंकि सीरियन जेकबाइट चर्च के बिशप थॉमस मोर ने तीनों को पार्टी से जुड़ने की इजाजत दी है। बिशप को चर्च के कैथलिकस के पद के लिए अगला उम्मीदवार माना जा रहा है। उन्होंने बताया कि जेकबाइट चर्च ने किसी की भी राजनीति स्वतंत्रता पर रोक नहीं लगाई है। वे अपना स्टैंड लेने के लिए तैयार हैं।
‘विचारधारा की वजह से सांप्रादायिक नहीं पार्टी’
फादर कुलाथनकुल ने कहा है कि यह तो शुरुआत है। एक साल में और भी लोग बीजेपी से जुड़ेंगे। तीनों के पार्टी के एक कार्यक्रम में शिरकत करने की खबर जंगल में आग की तरह फैल गई थी। फादर कुलाथनकुल ने बताया कि बहुत कम लोगों को पता है कि वह पार्टी के सदस्य 1985 में बन गए थे। यात्रा करने के साथ ही कई चीजों से जुड़े हुए थे।
उन्होंने कहा कि वहां बीजेपी बहुत ताकतवर नहीं है लेकिन एक साल में चीजें बदली हैं। बीजेपी नेता उनसे मेंबरशिप कैपेन को लेकर बातचीत कर रहे थे। फादर किझाक्केडथ ने कहा कि वह बीजेपी से गुजरात में अपने छात्रजीवन के दौरान काफी प्रभावित थे। बीजेपी को उसकी विचारधारा की वजह से सांप्रदायिक नहीं कहा जा सकता। वह बीजेपी से जुड़े रहे हैं और उन्हें पार्टी के साथ कुछ गलत नहीं लगता।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »